इन स्टेशनों पर फिर लौटेंगे मिट्टी के कुल्हड़ वाले दिन

By: Sudhir Shrivas

Updated On: 20 Apr 2019, 05:51:04 PM IST

  • इसलिए करनी पड़ रही ये पहल, आप भी जानिए

बालमीक पाण्डेय ञ्च कटनी। बढ़ता हुआ प्रदूषण, पानी की समस्या और गंदगी हर किसी के लिए समस्या का सबब बनी हुई है। इस दिशा में रेलवे विभाग ने खास पहल शुरू कर दी है। पश्चिम मध्य रेलवे ने तीन माह के अंदर कटनी और मुड़वारा स्टेशन को एनजीटी के मानकों पर लाने के लिए विशेष एक्शन प्लान तैयार किया है। इस अभियान में डिवीजन के 12 रेलवे स्टेशन कटनी जंक्शन, मुड़वारा, सतना, पिपरिया, गाडरवारा, नरसिंहपुर, मदनमहल, जबलपुर, मैहर, रीवा दमोह और सागर शामिल हैं। इसके तहत 50 माइक्रोन से कम के प्लास्टिक के उपयोग को पूर्णत: प्रतिबंधित किया गया है। खानपान के लिए वन टाइम प्लास्टिक डिस्पोजल की जगह कुल्हड़, पेपर कप-प्लेट का उपयोग कैटरिंग संचालक करेंगे। स्टेशन, प्लेटफॉर्म के दोनों छोरों के 500 मीटर के दायरे पर ट्रैक के किनारे विशेष सफाई रखने एवं गंदगी फैलाते पाये जाने पर जुर्माना लगाने की कार्रवाई होगी। जुर्माने की प्रतिदिन की रिपार्ट से भी अधिकारियों को अवगत कराना होगा। एनजीटी के सभी मानकों पर खरा उतरने के बाद आइएसओ 14001 प्रमाण पत्र दिया जाएगा।

खास-खास
वाट्सएप ग्रुप में प्रतिदिन के कार्य की प्रगति करनी होगी अपडेट।
सूखे और गीले कचरे के डस्टविन में लगाना होगा खास स्टीकर।
खुले तार, बोर्ड, ठीक करके, एनजीटी आदेश की बनेगी वेबसाइट।
स्टेशनों को करानी पड़ेगी एनजीटी के तहत वॉटर एवं एनर्जी ऑडिट।

इनका कहना है- स्टेशन परिसरों को साफ-सुथरा बनाने, प्रदूषण मुक्त करने सहित जल संरक्षण की दिशा में यह पहल शुरू की गई है। तीन माह के अंदर सभी स्टेशन प्रबंधकों को एनजीटी के मानकों पर खरा उतरने के लिए निर्देश दिए गए हैं। -डॉ. मनोज सिंह, डीआरएम

Updated On:
20 Apr 2019, 05:51:03 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।