Dixonry : गाइड की जगह अब होगा डिक्सनरी का उपयोग

By: Narendra Shrivastava

Updated On:
24 Aug 2019, 11:52:03 PM IST

  • जनपद शिक्षा केंद्र बड़वारा से शुरू हुआ जिला सीइओ का नवाचार, शिक्षकों व बच्चों को दी गई ट्रेनिंग

कटनी। सरकारी स्कूलों के शिक्षकों द्वारा बच्चों को पढ़ाते समय यदि कोई कठिन शब्द बीच में आ जाता है तो उस शब्द को गाडइ से देखकर छात्रों को उसका अर्थ बताते थे। इससे छात्र की शब्दावली भी कमजोर होती थी। साथ ही वह सिर्फ एक ही शब्द को रट लेता था, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। कोई भी शिक्षक व छात्र स्कूल में पढ़ाई के दौरान गाइड का इस्तेमाल नहीं करेगा। उसकी जगह पर डिक्सनरी देखेगा। उसमें शब्द को जो अनुवाद होगा वह छात्रों को बताएगा। जिले में गाइड की जगह डिक्सनरी देखने की जनपद पंचायत बड़वारा संकुल से भुड़सा स्कूल से इसकी शुरुआत भी हो चुकी है। यह नवाचार जिला पंचायत सीइओ जगदीश गोमे ने शुरू कराया हैं। बतादें कि जिले के सरकारी स्कूलों की शिक्षण व्यवस्था में सुधार लाने के लिए जिला पंचायत सीइओ द्वारा योजना बनाई गई है। इसका क्रियान्वयन भी शुरू हो गया है। योजना के मुताबिक किसी भी कक्षा में विषयों की पाठ्यपुस्तकों का उपयोग किया जाएगा। उनकी जगह पर गाइड का उपयोग बिल्कुल नहीं होगा। जिससे बच्चे चेप्टर को समझ के साथ पढ़े व खुद ही उसका उत्तर खोजे। योजनाओं का पालन कराने की जिम्मेदारी भी संबंधित बीआरसी व जनशिक्षक की होगी।

सभी विषयों को एक ही तरीके से पढ़ाते हंै शिक्षक
जिला सीइओ के मुताबिक प्राथमिक कक्षाओं में जब शिक्षक बच्चों को पढाना शुरू करते हैं तो सभी विषयों को लगभग एक ही तरीके से पढ़ाते हैं। जबकि हर विषय की प्रकृति अलग अलग होती है। उद्देश्य अलग अलग होता है। कक्षाओं में हिन्दी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं को पढ़ाई कराई जाती है। पर ज्यादातर बच्चे विचारों का आदान प्रदान हिन्दी में करते हैं जबकि अंग्रेजी पढऩे का उद्देश्य केवल परीक्षा पास करने तक या किसी भी तरह अच्छे अंक प्राप्त करने तक सीमित हो गया है। शिक्षक कठिन शब्दों का अर्थ बच्चों को रटाते रहते हैं। इस कारण अंग्रेजी बोलचाल की भाषा नहीं बनती और बच्चों के लिए धीरे धीरे कठिन भी हो जाती है। अंग्रेजी को बोलचाल की भाषा बनाने के लिए शिक्षकों को छोटे-छोटे निर्देश बच्चों को अंग्रेजी में देने के साथ ही उनका शब्दकोश बढ़ाना होगा। इसके लिए जिस बच्चे को जिस शब्द में कठिनाई हो उसका उच्चारण और अर्थ स्वयं डिक्सनरी से ढूंढ़ ले।

Updated On:
24 Aug 2019, 11:52:03 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।