किसानों की कर्जदार हैं हरियाणा की शुगर मिलें, इन पर बाकी है किसानों का इतना पैसा

By: Prateek Saini

Updated On: 21 Feb 2019, 05:54:46 PM IST

  • इस मुद्ये को लेकर प्रदेश सरकार ने रिपोर्ट विधानसभा के पटल पर रखी...

     

(चंडीगढ़,करनाल): हरियाणा सरकार द्वारा प्रदेश में चल रही चीनी मिलों को आर्थिक मदद किए जाने के बावजूद चीनी मिलें आज भी किसानों की कर्जदार हैं। हरियाणा की 11 सहकारी व तीन निजी शुगर मिलों की तरफ किसानों के छह सौ करोड़ से अधिक बकाया हैं। प्रदेश सरकार ने चीनी मिलों की वर्तमान हालात को लेकर एक रिपोर्ट आज विधानसभा के पटल पर रखी है। सरकार ने यह भी साफ कर दिया है कि किसानों को इस बकाया राशि पर ब्याज देने की कोई योजना नहीं है।

 

कांग्रेस विधायक करण सिंह दलाल ने आज यह मुद्दा प्रश्नकाल के दौरान सदन में उठाया। दलाल ने चीनी मिलों की तरफ किसानों की बकाया राशि और सरकार द्वारा दागी मिलों के विरूद्ध की गई कार्रवाई के बारे में सरकार से पूछा। जिसका जवाब देते हुए सहकारिता मंत्री ने बताया कि 31 जनवरी 2019 तक राज्य की 11 सहकारी चीनी मिलों की तरफ किसानों का 343.89 करोड़ व तीन निजी चीनी मिलों की तरफ किसानों का 281.21 करोड़ रुपए बकाया है।


इस मिल के सिर पर इतना भार

मंत्री ने बताया कि पानीपत सहकारी चीनी मिल की तरफ 19.78 करोड़, रोहतक चीनी मिल की तरफ 58.56 करोड़, करनाल चीनी मिल की तरफ 26.51 करोड़, सोनीपत चीनी मिल की तरफ 18.52 करोड़, शाहबाद चीनी मिल की तरफ 48.11 करोड़, जींद चीनी मिल की तरफ 28.63 करोड़, पलवल चीनी मिल की तरफ 23.52 करोड़, महम चीनी मिल की तरफ 35.84 करोड़, कैथल चीनी मिल की तरफ 32.84 करोड़, गोहाना चीनी मिल की तरफ 33.99 करोड़ व असंध चीनी मिल की तरफ 17.59 करोड़ बकाया है।

 

दूसरी तरफ निजी चीनी मिली की हालत इससे भी बदतर है। किसानों द्वारा आंदोलन किए जाने के बाद हरियाणा सरकार यमुनानगर की सरस्वती शुगर मिल को कई बार वित्तीय सहायता प्रदान कर चुकी है। इसके बावजूद इस मिल की तरफ किसानों के सर्वाधिक 125.32 करोड़ रुपए बकाया हैं। इसी तरह पिकाडली शुगर मिल भादसों की तरफ 59.03 करोड़ तथा नारायणगढ़ चीनी मिल की तरफ किसानों के 96.86 करोड़ रुपए बकाया खड़े हैं। सहकारिता मंत्री ने सदन को बताया कि सभी चीनी मिलों को चालू सीजन के दौरान किसानों को बिना किसी विलंब के भुगतान करने के निर्देश जारी किए गए हैं।

Updated On:
21 Feb 2019, 05:54:45 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।