बिना पटरी के 'गौरव खोता पथ

By: Surendra Kumar Chaturvedi

Updated On:
11 Jul 2019, 06:35:40 PM IST

  • यहां के गौरव पथ निर्माण में घटिया निर्माण सामग्री के आरोप भी हैं।
    सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधिकारी- कर्मचारियों की मिलीभगत के चलते आठ माह पहले कस्बे में १ किमी के गौरव पथ को भी संवेदक ने दो जगह बना दिया। साथ ही आठ माह बीतने के बाद भी अभी तक गौरवपथ में पटरी भी नहीं बनाई गई है। इससे एक ओर तो लोगों को साइड़ लेने में परेशानी होती है।


५० लाख रुपए की राशि से बना गौरव पथ
गुढ़ाचन्द्रजी. ग्राम पंचायत के आबादी क्षेत्र को जोडऩे के लिए सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में गौरव पथ के माध्यम से सीसी सड़कें बनाकर ग्रामीणों के आवागमन की राह आसान कर दी लेकिन यहां कस्बे में बनाया गए गौरव पथ पर पटरी निर्माण नहीं किए जाने से यह
आमजन के सहज आवागमन में परेशानी बना है। यहां के गौरव पथ निर्माण में घटिया निर्माण सामग्री के आरोप भी हैं।
सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधिकारी- कर्मचारियों की मिलीभगत के चलते आठ माह पहले कस्बे में १ किमी के गौरव पथ को भी संवेदक ने दो जगह बना दिया। साथ ही आठ माह बीतने के बाद भी अभी तक गौरवपथ में पटरी भी नहीं बनाई गई है। इससे एक ओर तो लोगों को साइड़ लेने में परेशानी होती है। पटरी के बिना आए दिन दुर्घटनाएं भी होती है। इस पथ पर केवीएसएस विद्यालय के सामने व समीप ही बनी खेळ के सामने गंदगी भरी पड़ी है। बिना पटरी के पानी का भी निकास नहीं हो पा रहा है। इस कारण लोगों के घरों के सामने पानी भरा है।
खारवाड़ वास चौराहे से पुराने अस्पताल वाले रास्ते में व आदर्श विद्या मंदिर के समीप करीब पचास लाख रुपए की राशि से गौरव पथ का संवेदक ने निर्माण करवाया। लेकिन अभी तक गौरव पथ की पटरी भी बनाई है। इस मार्ग से रोजाना हजारों की संख्या में छात्र स्कूलों, अटल सेवा केन्द्र सहित आमकाजाहरा आदि गांवों को आवागमन करते है। बारिश के दिनों में तो बिना पटरी के कई मकानों में तो पानी भरने का अंदेशा है। गौरवपथ में घटिया सामग्री का उपयोग करने से आदर्श विद्या मंदिर की गली में तो सीसी सड़क में वाहनों के पहियों के निशान भी हो गए हैं। लेकिन विभागीय अधिकारी ने बनने के बाद कभी भी गौरवपथ को देखने की जहमत नहीं उठाई है।
खास बात यह है कि कस्बे में सार्वजनिक निर्माण विभाग कार्यालय मेंं सहायक अभियंता सहित अन्य कर्मचारी बैठते हंै। लेकिन गौरवपथ की पटरी के बारे में किसी को सुध नहीं है। ग्रामीणों ने जिला कलक्टर को पत्र भेजकर गौरव पथ की पटरी बनवाने की मांग की है।
भुगतान के अभाव में अटका पटरी निर्माण
सार्वजनिक निर्माण विभाग के सहायक अभियंता के.के.मीना का कहना है कि गौरव पथ को संवेदक ने आठ माह पहले बना दिया था। लेकिन विभाग द्वारा गौरव पथ का भुगतान नहीं करने से पटरी निर्माण अटका है। भुगतान होते ही पटरी को बनवा दिया जाएगा। पत्रिका संवाददाता

Updated On:
11 Jul 2019, 06:35:40 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।