रोडवेजकर्मी आंदोलन के लिए फिर तैयार

By: Anil dattatrey

Updated On:
11 Jul 2019, 11:34:19 PM IST

  • Prepare for Roadway Worker's Movement .An angry roadway labor organization in the budget.

    बजट में अनदेखी से नाराज रोडवेज श्रमिक संगठन

हिण्डौनसिटी. राज्य सरकार के बजट में रोडवेज की उपेक्षा से नाराज रोडवेज श्रमिक संगठन आंदोलन के लिए लामबंद होने लगे हैं। बजट में रोडवेज की हालत सुधारने के लिए प्रावधान नहीं रखने से रोडवेजकर्मियों में रोष है।


रोडवेज श्रमिक संगठन एटक की स्थानीय शाखा के सचिव सत्यवीर डागुर व आरएसआटीसी रिटायरमेंट एम्प्लाइज एसोसिएशन के सचिव पूरण चंद शर्मा ने बताया कि राज्य सरकार के बजट से रोडवेज कर्मियों को आधारभूत ढांचे में मजबूती की आस थी। लेकिन बजट में न तो नई बसें खरीदने का प्रावधान किया और न ही आथिक संबल देने की घोषणा की गई।

वहीं भाजपा सरकार के समय से चल रहे 45 करोड़ रुपए के आर्थिक अनुदान के प्रस्ताव को भी बजट में शामिल नहीं किया है। इससे राजस्थान रोडवेज के श्रमिक संगठनों का संयुक्त मोर्चा के बैनर तले एटक, इंटक, सीटू, एसोसिएशन, बीजेएमएस व कल्याण समिति फिर से आंदोलन की तैयारी में जुट गए हैं। रोडवेज श्रमिक संगठनों के नेताओं का कहना है कि संशोधित प्रावधानों में रोडवेज को शामिल नहीं किया तो जल्द ही आंदोलन खड़ा किया जाएगा।


विपक्ष मेंं रह किए वादे भूले-
एटक के सचिव सत्यवीरसिंह डागुर ने बताया कि भाजपा सरकार के दौरान रोडवेज कर्मियों ने वर्ष २०१८ मेंं जुलाई माह में 5 दिन व सितम्बर-अक्टूबर माह में 20 दिन की चक्काजाम हड़ताल की थी। उस दौरान कांग्रेस के नेताओं ने सिंधी कैम्प धरना स्थल पर पहुंंच रोडवेजकर्मियों को सत्ता में आने पर रोडवेज की दशा सुधारने के भरोसा दिलाया था। सत्ता में आने पर कांग्रेस सरकार ने चुनावी घोषणा पत्र में शामिल नई बसें खरीदने व आर्थिक संबल देना तो दूर पहले बजट से रोडवेज का नाम ही गायब कर दिया।

Updated On:
11 Jul 2019, 11:34:19 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।