कोमल और प्रमोद की लव-स्टोरी का दुखद दी एंड

By: Vinod Nigam

Updated On: 28 Mar 2019, 03:21:10 PM IST

 
  • युवक के परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप ग्रामीणों ने बिठूर मंधना रोड जाम किया, मौके पर पहुंचे अलाधिकारी, जांच के बाद कार्रवाई का दिया आश्वासन।

कानपुर। बचपन की दोस्ती प्यार में बदल गई। प्रेम-प्रसंग के किस्से गांव में होने लगे। इसकी जानकारी जब प्रेमी के परिजनों को हुई तो उन्होंने उसकी शादी तय कर दी। पर प्रमोद ने अपनी पूरी जिंदगी कोमल के नाम कर दी थी। दोनों ने भागकर शादी करने का प्लाॅन बनाया और देरशाम घर से निकल गए। गुरूवार की सुबह ग्रामीणों की नजर शीशम के पेड़ में पढ़ी तो युवक-युवती के शव लटक रहे थे। खबर पूरे इलाके में फैल गई। पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज जांच शुरू कर दी।

देरशाम घर से भागे थे दोनों
बिठूर के टिक्कनपुरवा बरहट बांगर गांव निवासी शंकर मौर्य का बड़ा बेटा 23 वर्षीय प्रमोद कल्याणपुर रोड स्थित एक कंपनी में सुपरवाइजर था। उसका गांव की ही कोमल (18) से प्रेम-प्रसंग चल रहा था। इसकी जानकारी जब प्रमोद के पिता को हुई तो उन्होंने बेटे की शादी तय कर दी। बरात 12 मई को जानी थी। देरशाम प्रमोद और कोमल घर से भाग गए। दोनों के परिजनों ने उनकी खोज की। सुबह ग्रामीण खेतों में काम करने की जा रहे थे, तभी मंधना बिठूर रोड किनारे खेत में शीशम के पेड़ पर प्रमोद व कोमल का शव लटका देखा। उन्होंने उसकी जानकारी पुलिस को दी।

परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप
युवक-युवती की मौत की खबर से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई। प्रमोद के परिजन मौके पर आए। मृतक के पिता ने बताया कि दोनों के पैर पैर जमीन से छू रहे थे। प्रमोद के बाएं हाथ की नस कटी थी और होठ काले थे। उन्होंने कहा कि युवती के परिजनों ने दोनों की हत्या की है। इसी बीच पुलिस ने बिना फोरेंसिक जांच के शव को कब्जे में ले लिया। जिससे ग्रामीण भड़क गए और हंगामा करने लगे। पुलिस ने सख्ती दिखाई तो भीड़ ने शव को साथ रोड जाम कर दिया।

मारकर फंदे पर लटकाया
मृतक के भाई पंकज ने आरोप लगाते हुए बताया कि युवती के परिजनों ने कईबार प्रमोद को पीटा। इसी के कारण हमलोगों ने उसकी शादी तय कर दी। पर प्रमोद हर हालत में कोमल के साथ जिंदगी बिताना चाहता था और दोनों घर से भाग गए। पंकज का अरोप है कि युवती के परिजनों ने दोनों को मार कर पेड़ पर लटकाया है। वहीं मामले पर सीओ अजय कुमार ने बताया कि वैज्ञानिक साक्ष्य जुटाये जा रहे हैं, अभी मृतकों के परिजनों से बात नहीं हो सकी है।

Updated On:
28 Mar 2019, 03:21:09 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।