नहीं जुटी भीड़ तो बच्चों को पैसे देकर साइकिल का थमाया हैंडिल

By: Vinod Nigam

Updated On:
16 Apr 2019, 09:20:02 AM IST

 
  • साइकिल रैली में भीड़ नहीं आने से सपाईयों ने बच्चों को पैसे देकर बुलाया, सपा प्रदेश अध्यक्ष ने हरी झंडी दिखाकर उन्हें रवाना किया, भाजपा ने खड़े किए सवाल।

कानपुर। समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम सोमवार को साइकिल रैली को हरी झंडी दिखाने के लिए कानपुर पहुंचे। प्रदेश अध्यक्ष के आने से पहले रैली स्थल पर लोगों की भीड़ नहीं जुटनें पर सपाईयों के माथे पर पसीना आ गया। इसी बीच उन्होंने एक नई तरकीब इलाज की। झोपड़ पट्टी में रहनें वाले छोटे-छोटे बच्चों को पैसों का लालच देकर बुला लिया और उन्हें साइकिल का हैंडिल थमा दिया। नरेश उत्तम ने भी खुशी-खुशी रैली को रवाना किया।

प्रदेश अध्यक्ष भी पहुंचे
समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार राजीव मिश्रा के तत्वावधान में साइकिल रैली का आयोजन किया गया। जिसमें भाग लेने के लिए प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पहुंचे। लेकिन रैलीस्थल पर भीड़ नहीं आने से सपा नेताओं के चेहरे में हवाईयां उड़नें लगी। इसी बीच कुछ सपा नेताओं ने अपने चार पहिया वाहनों को झोपड़ पट्टी कर तरफ दौड़ा दिया। वहां युवा, बुजुर्ग को नहीं मिले, लेकिन बच्चों को वो कारों पर बैठा कर ले आए। इस बीच उन्हें साइकिल थामा दी गई। बच्चे जिंदाबाद के नारे लगाते हुए सपा उम्मीदवार को जिताने के लिए गली-मोहल्लों की तरफ बढ़ चले।

बच्चों के साथ विधायक भी
रैली में शामिल बच्चों ने आरोप लगाते हुए बताया कि हमें पैसे देकर लाया गया है। रैली में चल रहे एक मासूम ने बताया कि हमारे घर पर अंकल आए और सौ रूपए देकर कार में बैठनें को कहा। इस दौरान मोहल्ले के अन्य बच्चे भी जानें को तैयार हो गए। रैली में समाजवादी पार्टी के विधायक इरफान सोलंकी, विधायक अमितभ बाजपेयी, नगर अध्यक्ष मुईन खान के अलावा कई अन्य नेता भी बच्चों के साथ जिंदाबाद के नारे लगाते हुए चल रहे थे। इस पर जब इरफान सोलंकी से बात करनी की कोशिश की गई तो उन्होंने बोलनें से इंकार कर दिया।

जनता का नहीं मिल रहा समर्थन
भाजपा नगर अध्यक्ष सुरेंद्र मैथानी ने कहा ये चुनाव आचार संहिता उल्लंघन का मामला है। पार्टी जिला निर्वाचन अधिकारी के पास जाकर शिकायत दर्ज कराएगी। कहा, यह वाकया समाजवादी पार्टी की रैली की पोल खोलता है। सपा व बसपा का यूपी में पहले ही जनता ने बायकाट कर दिया है। अब इन्हें अपशब्द और धर्म के साथ-साथ बच्चों को सहारा लेना पड़ रहा है। वहीं मामले पर सपा उम्मीदवार राजीव मिश्रा से इस बावत बात करने की कोशिश की तो उन्होंने भी अपना मुंह घुमा लिया। इतना ही नहीं प्रदेश अध्यक्ष भी इस पूरे प्रकरण पर खोमोश रहे।

 

Updated On:
16 Apr 2019, 09:20:02 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।