श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर यशोदाओं का सम्मान

By: MI Zahir

Updated On:
24 Aug 2019, 04:44:04 PM IST

 
  • जोधपुर.श्रीकृष्ण जन्माष्टमी ( Janmashtami ) पर राजस्थान पत्रिका के सामाजिक सरोकार ( Rajasthan Patrika Social Concern ) के तहत शनिवार को नवजीवन संस्थान ( Navjivan Sansthan ) के चौपासनी हाउसिंग बोर्ड स्थित लवकुश गृह परिसर ( Lovekush Grah ) में दोपहर को आयोजित समारोह में सेवारत यशोदाओं का सम्मान ( Honor of yashodas ) किया गया।।

     

     

जोधपुर. पिछले तीन दशक से करीब 11 सौ बच्चों को अपनी ममता की छांव का सुख दे चुकी जोधपुर के नवजीवन संस्थान की 20 गृह माताएं बिना भेदभाव के यशोदा का धर्म निभा रही है। संस्थान के लवकुश बाल विकास केंद्र की अनूठी मदर्स उन अज्ञात माता पिताओं की संतानों पर वात्सल्य और ममता लुटाने में किसी तरह की कोई कसर नहीं छोड़ती है जो जो किसी मजबूरी में अथवा समाज के डर से किसी नाले रेलवे ट्रैक अथवा वीरान झाडय़िों में अपने नवजात छोड़ देते हैं । चौपासनी हाउसिंग बोर्ड 16 सेक्टर स्थित नवजीवन संस्थान में करीब तीन तीन शिफ्ट में शिशुओं पर ममता लुटाने वाले वाली 20 गृह माताओं का शनिवार को जन्माष्टमी के उपलक्ष में राजस्थान पत्रिका के सामाजिक सरोकार के तहत जोधपुर में सेवा क्षेत्र में सक्रिय संस्था एक कोशिश ( Ek koshish ) एनजीओ के माध्यम से सभी 20 मदर को यशोदा सम्मान प्रदान कर सम्मानित किया गया। सम्मान के तहत उन्हें स्मृति चिन्ह प्रशस्ति पत्र उपहार भेँट किया गया। समारोह में संस्था के अध्यक्ष विनीत राठी वासु और सचिव मनीष राठी, विनोद तापडय़िा ,विकास बागड़ी, बीएल गांधी, राधेश्याम डागा, दीपक रामावत सहित कई महिला सदस्य भी मौजूद रही।कार्यक्रम में नवजीवन संस्थान के संचालक राजेंद्र परिहार और संस्थान की अधीक्षक स्नेहलता व्यास भी खासतौर से मौजूद रहे। नवजीवन संस्थान वर्ष 1989 से संचालित किया जा रहा है और संस्थान के अहाते में पालना है जिसमें मजबूर माताएं गुप्त रूप से बच्चों को छोड़ जाती हैं। इस मौके हरयाळो राजस्थान ( Haryalo rajasthan ) के तहत पौधरोपण ( plantation ) के बाद पर्यावरण संरक्षण का संकल्प भी लिया।

 

 

Updated On:
24 Aug 2019, 04:44:04 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।