RAS अफसर ने ट्रैप होने से एक घंटे पहले एक और से ली थी 10 हजार की रिश्वत

By: Harshwardhan Singh Bhati

Updated On:
19 Apr 2019, 12:25:38 PM IST

 
  • इस पर एसीबी ने दूसरे पीडि़त की रिपोर्ट पर मामला दर्ज कर नाहटा के खिलाफ कार्यवाही शुरू कर दी।

नाहटा ने दस हजार की रिश्वत के साथ पकड़े जाने से एक घंटे पहले एक ओर शख्स से प्लॉट का नाप कराने की एवज में 10 हजार 800 रुपए की रिश्वत ली थी। नाहटा के पकड़े जाने के बाद एक शख्स ने एसीबी को फोन कर इसकी जानकारी दी। एसीबी को यह राशि कार्यवाही के दौरान नाहटा के पास मिली थी। पीडि़त ने रिश्वत में दिए नोटों के बारे में भी बताया। इस पर एसीबी ने दूसरे पीडि़त की रिपोर्ट पर मामला दर्ज कर नाहटा के खिलाफ कार्यवाही शुरू कर दी।


एसीबी एएसपी नरेंद्र चौधरी के अनुसार मंडोर के सुरपुरा में आंगणवा निवासी प्रेमाराम सुथार ने बताया कि उसके पट्टा सुदा मकान व प्लॉट का पटवारी से नाप करवाया था। पटवारी ने चार दिवारी (पूर्व दिशा) का नाप करवाने को कहा तो उसने मंगलवार को एडीएम (शहर) द्वितीय व एडीएम तृतीय विजय सिंह नाहटा के पास आवेदन किया था। इस पर नाहटा ने पुलिस उपायुक्त मुख्यालय को नाप करवाने के लिए पत्र जारी कर दिया लेकिन पटवारी को भेजने के लिए 15 हजार रुपए की रिश्वत मांगी। इस पर गुरुवार को वह नाहटा के ऑफिस गया और नाहटा को बताया कि उसके पास इतने रुपए नहीं हैं। नाहटा 15 हजार रुपए लेने पर अड़े रहे। काफी देर तक गुहार लगाने के बाद नाहटा ने उससे 10 हजार 800 रुपए रिश्वत के लिए। इनमें 2 हजार रुपए के 5 नोट व 100 रुपए के आठ नोट थे।

कार्यवाही के बाद फोन पर एक दर्जन शिकायतें

एडीएम नाहटा वर्ष 2013-15 में प्रतापगढ़ और वर्ष 2015-16 एसडीएम शेरगढ़ के पद पर रहे थे। एसीबी कार्यवाही के बाद शेरगढ़ से 5 और प्रतापगढ़ से 7 लोगों ने फोन पर एसीबी को नाहटा के खिलाफ रिश्वत लेने की शिकायतें की।

Updated On:
19 Apr 2019, 12:25:38 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।