एक से अधिक राज्यों के साथ e-trade करने वाला राजस्थान बना पहला राज्य

By: Harshwardhan Singh Bhati

Published On:
Jun, 12 2019 11:12 AM IST

  • जोधपुर सहित राज्य की ई-नाम मंडियों ने अब तक 5 से अधिक राज्यों के साथ ई-ट्रेड किया

अमित दवे/जोधपुर. भारत सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजना ई- राष्ट्रीय कृषि बाजार (इलेक्ट्रॉनिक नेशनल एग्रीकल्चर मार्केट, ई- नाम) पर राजस्थान एक से अधिक राज्यों के साथ ई-ट्रेड करने वाला देश का पहला राज्य बन गया है। जोधपुर की कृषि उपज मंडी सहित राज्य की अन्य ई-नाम मंडियां अब तक 5 से अधिक राज्यों के साथ ई-ट्रेड कर चुकी हैं। ई-नाम पर राजस्थान ने 16 राज्यों व 2 केन्द्र शासित राज्यों की सूची में पहला स्थान प्राप्त किया है।

ये मंडियां कर रही इंटरस्टेट ई-टे्रड

जोधपुर की विशिष्ट जींस कृषि उपज मंडी व गुंटुर (आन्ध्र प्रदेश) के बीच चिली कमोडिटी में ई-ट्रेड हुआ। इसके अलावा प्रदेश का पहला इंटर स्टेट ई-ट्रेड भी जोधपुर संभाग की सुमेरपुर मंडी से हुआ। सुमेरपुर (पाली) व पालनपुर (गुजरात) मंडी के बीच मूंग व अरंडी जींस में हुआ। इसके अलावा नोखा (बीकानेर) मंडी व अकोला (महाराष्ट्र) के बीच चना व मंूग, रामगंज मंडी व मंदसौर (मध्यप्रदेश) के बीच धनिया जींस, फतहनगर (उदयपुर) व सिरसा (हरियाणा) मंडी के बीच सरसो जींस में इंटरस्टेट ई-ट्रेड हो चुका है। इसके अलावा नगर (भरतपुर) व मथुरा (उत्तर प्रदेश) मंड़ी के बीच भी ई-ट्रेड हुआ

संभाग की दो मंडियां शामिल
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने पहले कार्यकाल में वर्ष 2022 तक किसानों की आय दुगुनी करने, किसान की उपज के बेचान में बिचौलियों के हस्तक्षेप व दलाली को बंद करने के लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए देशभर की कृषि उपज मंडिय़ों को ऑनलाइन करने की घोषणा की थी। राजस्थान में दो चरणों में 25 मंडिय़ों का चयन किया गया। पायलट प्रोजेक्ट में रामगजमंडी व बूंदी की मंडी को लिया गया था। पहले चरण में 11 तथा द्वितीय चरण में 14 मंडिय़ों का चयन किया गया। जिसमें जोधपुर संभाग से जोधपुर जीरा मंडी तथा सुमेरपुर मंडी का चयन किया गया ।

राजस्थान की मंडिय़ों की अब तक प्रगति
- 25 मंडियां ई-नाम से जुड़ी
- 1216218 मीट्र्रिक टन कृषि जींसों का ई-ट्रेड हुआ
- 4298.07 करोड़ रुपयों का ट्रेड हुआ
- 1119 लाख रुपयों का ई-पेमेन्ट हुआ
- 1355043 किसान पंजीकृत ई-नाम से
- 11680 ट्रेडर्स पंजीकृत ई-नाम से
- 60 विभिन्न कमोडिटी का टे्रड होता है

पारदर्शी होगा सौदा
जोधपुर की मंडी व आन्ध्र प्रदेश की मंडी में ई-ट्रेड हुआ। राजस्थान की कृषि मंडियों का एक से अधिक राज्यों के साथ ई-ट्रेड करना खुशी की बात है। इससे किसानों द्वारा मंडी में लाई उनकी उपज का ई-ऑक्शन से पारदर्शिता के साथ सौदा होगा व उच्चतम मूल्य मिलेगा।

इनका कहना है

यह गर्व की बात है कि मंडी समितियों, व्यापारियों, किसानों व ई-नाम टीमों के सहयोग से इंटरस्टेट ई-ट्रेड में राजस्थान देश में पहले स्थान पर है।
रवि कुमार चन्द्रा, ई-नाम स्टेट हैड, राजस्थान

Published On:
Jun, 12 2019 11:12 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।