पावटा सब्जी मंडी में फुटकर व्यापारियों ने दिया धरना, रखीं मांगे

By: Harshwardhan Singh Bhati

Published On:
Jul, 11 2019 01:56 PM IST

  • शहर की सबसे पुरानी पावटा मंडी में सैंकड़ों लोगों की भीड़ से पैर रखने की जगह नहीं रहती थी। वहीं अब मंडी में इक्के-दुक्के लोग नजर आने लगे हैं। सुनसान हुए मंडी परिसर में अब तक केवल ठेले व छोटे व्यापारी सब्जियां बेच रहे थे।

जोधपुर. शहर की सबसे पुरानी पावटा मंडी में सैंकड़ों लोगों की भीड़ से पैर रखने की जगह नहीं रहती थी। वहीं अब मंडी में इक्के-दुक्के लोग नजर आने लगे हैं। सुनसान हुए मंडी परिसर में अब तक केवल ठेले व छोटे व्यापारी सब्जियां बेच रहे थे। इन्हें भी यहां से हटाए जाने को लेकर गुरुवार को फुटकर व्यापारियों का रोष उबल पड़ा। यहां मंडी परिसर में व्यापारियों ने धरना देते हुए मांगी रखीं कि उन्हें यहां से नहीं हटाया जाए।

उल्लेखनीय है कि मंडी में गाडिय़ों के प्रवेश पर पाबंदी के बाद अब पावटा मंडी में फलों की बिक्री नहीं हो रही है। 24 घंटे तैनात गार्ड व पुलिसकर्मियों को फलों से भरी गाडिय़ों को प्रवेश नहीं देने के सख्त निर्देश दे रखे हैं। पावटा मंडी के व्यापारियों को भदवासिया में शिफ्ट करने के लिए मंडी प्रशासन ने गत शनिवार को रात आठ बजे के बाद आलू, प्याज व फलों से भरी गाडिय़ों के प्रवेश पर पाबंदी लगा दी। पाबंदी लगाने का उद्देश्य व्यापारियों को जल्द से जल्द भदवासिया मंडी में शिफ्ट करने का हैं।

लोग छुट्टी के दिन सब्जी व फलों की खरीदारी करने आते थे। लेकिन अब मंडी परिसर सुनसान नजर आने लगा है। महज छोटे व्यापारी व ठेले वाले सब्जी व फलों की बिक्री कर रहे थे। मंडी में गाडिय़ों की पाबंदी के बाद अब स्टॉक खत्म होने के बाद मंडी में फलों की बिक्री पूरी तरह से बंद हो गई है। इधर भदवासिया मंडी में व्यापारियों के दुकानों का निर्माण करवाने का काम जारी हैं। अब तक दो दर्जन से ज्यादा व्यापारियों ने दुकानों का निर्माण शुरू करवा दिया हैं।

Published On:
Jul, 11 2019 01:56 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।