राजस्थान में रिकॉर्ड तोड़ बनाई जा रही सोलर से बिजली, 2010 में शुरू हुआ था सिलसिला

By: Harshwardhan Singh Bhati

Updated On:
25 Aug 2019, 03:46:35 PM IST

  • करीब 10 साल पहले जब प्रदेश में सोलर से बिजली बनाने की शुरुआत हुई तो किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि यह रिकॉर्ड कायम कर देगा। पारंपरिक बिजली स्त्रोतों का विकल्प बन रहा अक्षय ऊर्जा स्त्रोत हर साल प्रगति कर रहा है।

अविनाश केवलिया/जोधपुर. करीब 10 साल पहले जब प्रदेश में सोलर से बिजली बनाने की शुरुआत हुई तो किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि यह रिकॉर्ड कायम कर देगा। पारंपरिक बिजली स्त्रोतों का विकल्प बन रहा अक्षय ऊर्जा स्त्रोत हर साल प्रगति कर रहा है। खास बात यह कि राजस्थान में बनने वाली कुल बिजली का 15 से 20 प्रतिशत अकेला सोलर ही जनरेट कर रहा है।


कैसे सूरज से बढ़ रही हमारी ताकत

वर्ष -------- सोलर जनरेशन
2010 ----- 28.5
2011 ---- 155
2012 ----- 821
2013 ------ 3612
2014 ------ 1365
2015 ------ 425
2016 ------ 542
2017 ------- 795
2018 ------ 28445
2019 ------ 23723 (मई 2019 तक)
(सोलर जनरेशन लाख यूनिट में है)

इस वर्ष की स्थिति
- 189139 लाख यूनिट बिजली पूरे प्रदेश में बनी मई 2019 तक।
- 23723 लाख यूनिट इसमें से सोलर एनर्जी है।
- 12 प्रतिशत से ज्यादा है यह आंकड़ा।
- 46632 लाख यूनिट कुल बिजली ग्रीन एनर्जी से बनी (विंड, बायोमास व सोलर मिलाकर)
- 24 प्रतिशत से अधिक है यह कुल बिजली जनरेशन का।


इस साल रिकॉर्ड जनरेशन की उम्मीद

प्रदेश में साल के शुरुआती पांच महीने में ही 23723 लाख यूनिट बिजली सोलर से बन चुकी है। इस साल के अंत तक यह आंकड़ा सबसे ज्यादा होगा। पिछले वर्ष 28445 लाख यूनिट बिजली सोलर से बनी थी। जो कि पिछले 10 वर्ष में सबसे ज्यादा थी।

Updated On:
25 Aug 2019, 03:46:35 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।