डेंगू-चिकनगुनिया से निपटने में असक्षम सरकारी मशीनरी, फोगिंग कराना निगम के लिए बन रहा चुनौती

By: Abhishek Bissa

Updated On:
10 Sep 2019, 02:54:14 PM IST

  • शहर में मौसमी बीमारियों में डेंगू-चिकनगुनिया के मरीज आने लग गए हैं, नगर निगम का दावा हैं कि वह 15 दिन में शहर में फोगिंग करवा देगा। लेकिन ज्यादातर स्थानों पर नगर निगम की टीमें अभी तक पहुंची नहीं है।

जोधपुर. शहर में मौसमी बीमारियों में डेंगू-चिकनगुनिया के मरीज आने लग गए हैं, नगर निगम का दावा हैं कि वह 15 दिन में शहर में फोगिंग करवा देगा। लेकिन ज्यादातर स्थानों पर नगर निगम की टीमें अभी तक पहुंची नहीं है। वहीं नगर निगम के पास 16 फोगिंग की मशीन हैं, इसमें भी 10 चालू हालत में है, 6 खराब पड़ी है। दो नगर निगम स्टोर से रिपेयर करवाने दी हुई है। नगर निगम व स्वास्थ्य विभाग के पास अभी तक बड़ी वाली फोगिंग मशीन भी नहीं है। इस कारण शहर में फोगिंग का कार्य भी बड़ी धीमी गति से चल रहा है।

सीएमएचओ डॉ. बलवंत मंडा के अनुसार फोगिंग में बड़ी मशीन प्रभावशाली रहती है। अभी फिलहाल निगम शैड्य़ूल के अनुसार फोगिंग करवा रहा है। शहर में मौसमी बीमारियों पर रोकथाम व एंटी लार्वा गतिविधियों के रोकथाम पर हो रहे प्रयासों को लेकर सोमवार को जिला कलक्टर प्रकाश राजपुरोहित ने शहर के कई क्षेत्रों में दौरा किया। जबकि गत रविवार को पत्रिका ने अपने पृष्ठ संख्या 2 पर शीर्षक ‘जोधपुर में डेंगू का डंक, 9 मरीज मिले’ खबर प्रकाशित की। इसके बाद सोमवार को प्रशासन हरकत में आ गया।

खाली प्लाट में जमा हो रहा पानी
शहर के 65 वार्डों में 1 हजार से अधिक ऐसी जगहें हैं, जहां खाली प्लाट में पानी भरा है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से इन जगहों पर गंबुसिया मछलियां डालने व टेमिफोस छिडकऩे जैसी गतिविधियां की जाती है, अगर स्वास्थ्य विभाग व नगर निगम की टीमें ढंग से काम करती है तो शहर में डेंगू-चिकनगुनिया के काफी हद तक मरीज कम हो जाएंगे। नगर निगम की फोगिंग टीमें भी एक वार्ड के सभी क्षेत्रों में फोगिंग नहीं कर रही है। ऐसे में कई जगहों पर लोगों ने फोगिंग होती हुई नहीं देखी है।

कलक्टर ने फील्ड में देखी हकीकत
जिला कलक्टर प्रकाश राजपुरोहित ने सोमवार को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के दल के साथ शहर के विभिन्न स्थानों का औचक निरीक्षण कर मौसमी बीमारियों की रोकथाम के लिए किए जा रही एंटी लार्वल एक्टिविटीज का निरीक्षण किया। उन्होंने मौके पर ही कहा कि लापरवाही करने वाले अधिकारियों के विरूद्ध कार्रवाई की जाएगी। कलक्टर ने डॉ. बलवंत मंडा को निर्देश दिए कि वे क्षेत्रवार सघन एंटीलार्वस एक्विविटीज करने के साथ इन एक्टिविटीज को क्रॉस वैरीफ ाई करने के कड़े निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कोई भी क्षेत्र एंटीलार्वस एक्टिविटी से वंचित नहीं रहना चाहिए। जिला कलक्टर ने गंदे पानी में एमएलओ व साफ पानी में टेमीफ ोस डालने के साथ गम्बुशिया मछलियों को जलग्रहण स्थलों पर डालने के विषय में स्वयं भौतिक सत्यापन किया।

नगर निगम के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे समय सारणी के अनुसार फोगिंग का कार्य नियमित रूप से करें, साथ ही विभिन्न नालों की सफ ाई का कार्य करवाने के निर्देश दिए। वार्ड 59 के आर्य नगर के साथ राजीव गांधी नगर, भदवासिया नाला, लाल सागर, रमतलाई नाडी, नागौरी गेट, मगरा पूंजला सहित विभिन्न क्षेत्रों में मलेरिया, डेंगू, स्वाइन फ्लू व विभिन्न मौसमी बीमारियों की रोकथाम के लिए चलाई जा रही एंटीलार्वल एक्टिविटीज का मेडिकल टीम के साथ जाकर भौतिक सत्यापन किया। सीएमएचओ डॉ. मंडा ने कहा कि अब तक 12 हजार 983 स्थानों पर एमएलओ, एक हजार 722 स्थानों पर पायरेथ्र्रम स्प्रे के साथ 177 स्थानों पर गम्बुसिया मछलियंों को डाला गया है।

फालना से आएगी फोगिंग की बड़ी मशीन
फालना से फोगिंग के लिए बड़ी मशीन मंगवाई गई है। जो एकाध दिन में आ जाएगी। पिछले 3-4 सालों में जहां पर सर्वाधिक मरीज आए हैं, वहां फोगिंग कराई जा रही है। पांच-पांच वार्डों मेंं भी फोगिंग कराई जा रही है। संवेदनशील इलाकों में तुरंत फोगिंग कराई जा रही है। पॉजिटिव केस आने वाले जगहों पर भी फोगिंग कराई जा रही है।
- सुरेश कुमार ओला, आयुक्त, नगर निगम

Updated On:
10 Sep 2019, 02:54:14 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।