कैंसर मरीज की राष्ट्रीय रजिस्टर में होगी एंट्री

By: Gajendra Singh Dahiya

Updated On:
11 Jul 2019, 11:54:00 PM IST

 

  • - सरकारी व निजी अस्पतालों के साथ लैब को भी दिए कैंसर मरीज का डाटा ऑनलाइन संधारित करने के निर्देश
    - देश में मरीज को ट्रेक करने के साथ कहीं भी लिया जा सकेगा उपचार

जोधपुर. प्रदेश के सभी कैंसर मरीजों का रिकॉर्ड ऑनलाइन होगा। नए-पुराने सभी मरीजों के बारे में राष्ट्रीय रजिस्टर में पूरा प्रोफाइल लिखा जाएगा। इसमें आधार नम्बर और भामाशाह कार्ड नम्बर भी होंगे। इसके बाद वह देश के किसी भी हिस्से में इलाज ले सकेगा। सरकार इससे कैंसर मरीजों को ट्रेक भी कर पाएगी।

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद् (आइसीएमआर) की ओर से चलाए जा रहे राष्ट्रीय कैंसर रजिस्ट्री कार्यक्रम के तहत जनसंख्या आधारित व अस्पताल आधारित कैंसर मरीजों का जिलेवार डाटा एकत्र किया जा रहा है। राजस्थान के अधिकांश जिले इससे जुड़े हुए नहीं है। राज्य सरकार ने कैंसर को गंभीरता से लेते हुए जुलाई के प्रथम सप्ताह में सभी सरकारी व निजी अस्पतालों और क्लिनिकल लैब को मरीज का डाटा रजिस्टर में अंकित कर ऑनलाइन करने के निर्देश दिए हैं।

 

मरीज को मिलेगा राष्ट्रीय कैंसर नम्बर
कैंसर रजिस्टर में रजिस्ट्रेशन के बाद मरीज को ‘यूनिक’ राष्ट्रीय कैंसर नम्बर दिया जाएगा। इस नम्बर की मदद से कोई भी डॉक्टर मरीज की हिस्ट्री, उपचार, रोग, उसकी आदतें एक क्लिक में जान सकेगा। सरकार इससे संबंधित क्षेत्र में कैंसर की स्थिति की भी जांच कर सकेगी। कैंसर से पहले टीबी के लिए रजिस्ट्री शुरू की गई थी। आइसीएमआर गैर संक्रमित सभी बीमारियों मसलन हार्ट अटैक, डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, कैंसर के डाटा तैयार करने में जुटी है।

5 साल में बढ़े 68 प्रतिशत मरीज
महिलाओं में गर्भाशय व स्तन कैंसर और पुरुषों में प्रोस्टेट, फैफड़ा, अग्नाशय, कोलोन, लीवर, ल्यूकेमिया और नॉन-हॉजकिन् कैंसर के मामले अधिक देखने को मिल रहे हैं। वर्ष 2018 में देश में 7 लाख, 84 हजार, 821 मरीजों की कैंसर से मौत हुई थी जबकि 2013 में यह आंकड़ा में 4 लाख, 65 हजार, 169 था। यानी पांच साल में कैंसर मरीजों की मौत में 68 फीसदी का इजाफा हुआ है। देश में हर साल 11 लाख नए कैंसर रोगी सामने आ रहे हैं।
जोधपुर के मथुरादास माथुर अस्पताल में पिछले साल 10 हजार, 664 कैंसर रोगियों का इलाज किया गया था। इसमें से करीब 35 से 40 फीसदी रोगी गले व मुंह के कैंसर से ग्रस्त थे।

............................................

राज्य सरकार ने कैंसर रजिस्ट्री योजना के तहत सभी कैंसर मरीजों का प्रोफाइल राष्ट्रीय रजिस्टर में रखने के निर्देश दिए हैं। इससे कैंसर मरीज को आसानी से ट्रेक किया जा सकेगा।

डॉ. प्रदीप गौड़, विभागाध्यक्ष, रेडियोथैरेपी, डॉ. सम्पूर्णानंद मेडिकल कॉलेज जोधपुर

 

Updated On:
11 Jul 2019, 11:54:00 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।