कागजों में अटकी ग्रामीण रूट की बसें

By: Gunjan Shekhawat

Updated On:
11 Jul 2019, 11:59:43 AM IST

 
  • jhunjhunu news: ग्रामीण क्षेत्र में लोगों को परिवहन की बेहतर सुविधा देने के लिए सरकार ने ग्रामीण रूट पर रोडवेज की बसें चलाने के लिए रोडवेज डिपो प्रशासन से प्रस्ताव मांगे थे। जिसके बाद डिपो प्रशासन ने ग्रामीण रूटों का सर्वे करवाकर उच्च अधिकारियों को प्रस्ताव बनाकर भेज दिए। करीब छह माह बीत जाने के बाद अभी तक प्रस्तावों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। जिसके चलते ग्रामीण क्षेत्रों में शुरू होने वाले बसें कागजों में ही अटक कर रह गई है।

 

झुंझुनूं. ग्रामीण क्षेत्र में लोगों को परिवहन की बेहतर सुविधा देने के लिए सरकार ने ग्रामीण रूट पर रोडवेज की बसें चलाने के लिए रोडवेज डिपो प्रशासन से प्रस्ताव मांगे थे। जिसके बाद डिपो प्रशासन ने ग्रामीण रूटों का सर्वे करवाकर उच्च अधिकारियों को प्रस्ताव बनाकर भेज दिए। करीब छह माह बीत जाने के बाद अभी तक प्रस्तावों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। जिसके चलते ग्रामीण क्षेत्रों में शुरू होने वाले बसें कागजों में ही अटक कर रह गई है। ग्रामीण क्षेत्रों में पूर्व में भी रोडवेज की बसें चलती थी, लेकिन बाद में उन्हें बंद कर दिया गया था। सरकार ने फिर से बसों का संचालन करने का निर्णय लिया था। जिसके बाद सर्वे करवाकर बसे चालने के लिए प्रस्ताव मांगे थे। सरकार की ओर से ज्यादा से ज्यादा गांवों को रोडवेज से जोडऩे का प्रयास किया गया था।
बसें चलने से फायदा
रोडवेज की ओर से ग्रामीण रूट पर बसों का संचालन करने से ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को इसका फायदा होगा। कईगांव अभी तक रोडवेज की सेवा से नहीं जुड़ पाए हैं। जिसके चलते ग्रामीणों को निजी बसों में यात्रा करनी पड़ती है। वहीं कई बार निजी वाहन किराए पर लेकर शहर आना पड़ता है। इससे ग्रामीणों को आर्थिक नुकसान उठाना पड़ता है।

 


बढ़ेगा रोडवेज का राजस्व

 


ग्रामीण रूट पर बसे चलने से रोडवेज को भी लाभ होगा। इससे रोडवेज का यात्री भार बढ़ेगा व राजस्व में भी वृद्धिहोगी। वहीं कईबार ग्रामीण भी रोडवेज के अधिकारियों को कुछरूटों पर रोडवेज की बस चालने की मांग भी कर चुके हैं।

इनका कहना है
उच्च अधिकारियों की ओर से सर्वे करवाकर प्रस्ताव मांगे गए थे, जो भेज दिए गए हैं।
वासुदेव शर्मा, मुख्य प्रबंधक, रोडवेज डिपो, झुंझुनूं

 

गली-मोहल्लों में खुलेंगे जनता क्लिनिक
झुंझुनूं. आमजन को गली-मोहल्लों में इलाज की बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए सरकार की ओर से गली-मोहल्ले में जनता क्लिनिक खोले जाएंगे। सरकार की ओर से इसके संचालन में दानदाताओं का सहयोग लिया जाएगा।यहां परामर्श के लिए आने वाले मरीजों को दवाई भी सरकार दानदाताओं के सहयोग से निशुल्क उपलब्ध कराएगी। जानकारी के मुताबिक शहर के गली-मोहल्लों के आस-पास चिकित्सा सुविधा उपलब्ध नहीं होने के कारण लोगों को इलाज के लिए फिलहाल राजकीय बीडीके अस्पताल आना पड़ता है।मरीजों का दबाव होने के कारण लम्बी लाइनों में लगना पड़ता है।इसके बाद दवाई के लिए फिर अपनी बारी का इंतजार करना होता है।ऐसे में मरीज व उसके परिजनों को काफी दिक्कत उठानी पड़ती है।लेकिन जनता क्लिनिक खुलने से कुछ दूरी पर ही इलाज की सुविधा मुहैया हो जाएगी, इससे अस्पतालों में मरीजों का भार कम होने से चिकित्सक व मरीजों को भी राहत मिलेगी।

Updated On:
11 Jul 2019, 11:59:43 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।