इस तरह दस दिन में सीखेंगे संस्कृत में बात करना 

By: Ruchi Sharma

Published On:
Feb, 12 2017 05:48 PM IST

  • बुंदेलखंड विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग में इन दिनों दस दिवसीय कार्यशाला चल रही है
झांसी. बुंदेलखंड विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग में इन दिनों दस दिवसीय कार्यशाला चल रही है। जिसमें रोचक ढंग से दस दिनों में संस्कृत भाषा बोलने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। संस्कृत भारती और बुंदेलखंड विश्वविद्यालय संयुक्त रूप से इस कार्यशाला का आयोजन कर रहा है। गुरुवार को इस कार्यशाला की शुरुआत हुई जिसमें संस्कृत भारती के प्रशिक्षक ने बेहद मनोरंजक तरीके से संस्कृत बोलने का अभ्यास कराया। 

प्रचलित शब्दों का बताया गया अनुवाद

प्रशिक्षण के दौरान संस्कृत भारती के प्रशिक्षक प्रकाश ने प्रचलित शब्दों और  वस्तुओं के संस्कृत नामों की जानकारी दी और उच्चारण सिखाया। इस दौरान कः, का, सा, एषः,, एषा, सः जैसे शब्दो के हिंदी समानार्थी शब्दो से परिचित कराया गया । साथ ही ट्यूबलाइट, ब्लैकबोर्ड, साबुन, पानी की बोतल, खाने का पत्तल, दोना, छिपकली जैसे शब्दों के संस्कृत उच्चारण सिखाये और अभ्यास कराये गए।

कार्यशाला के दौरान कराया अभ्यास

कार्यशाला के दौरान छोटे वाक्यों के निर्माण, शब्दों की संस्कृत शब्दावली याद करने और आपस में वार्तालाप के लिए प्रेरित किया गया। कार्यशाला में पत्रकारिता विभाग के साथ ही कई अन्य विभागों के विद्यार्थियों और शिक्षकों ने भी हिस्सा लिया। कार्यशाला में पत्रकारिता विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. सी पी पैन्यूली, प्रवक्ता उमेश कुमार, राघवेंद्र दीक्षित, अभिषेक कुमार व अन्य लोग मौजूद रहे।

Published On:
Feb, 12 2017 05:48 PM IST