हिलेगी सियासी जमीन, बिछानी होगी नई जाजम

By: Hari Singh Gujar

Published On:
Jun, 12 2019 08:11 PM IST

 

  • - शहर में 45 नए वार्ड होने से नए युवाओं को मिलेगा मौका

 


झालावाड़.झालावाड़ की शहरी सरकार में अब 45 पार्षद होंगे। वार्डों के पुनर्गठन के बाद शहर में पहले से बने वार्डों की सीमा छोटी हो जाएगी। वार्डों के इस परिसीमन से जहां राजनीति में भविष्य तलाश रहे नए युवाओं को पार्षद का चुनाव लडऩे का मौका मिलेगा वहीं कई दिग्गजों की सियासी जमीन खिसकेगी। मतदाता बदल जाने से कई मौजूदा पार्षदों या दावेदारों को दूसरे वार्ड में नए सिरे से जाजम बिछानी पड़ सकती है। वार्डों के पुनर्गठन से भाजपा-कांग्रेस के रणनीतिकारों को भी नए सिरे से सोचने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। इस परिसीमन को कई स्थानीय नेता जहां फायदा मानकर चल रहे हैं, वहीं कईयों का विरोध भी सामने आ सकता है।

गांवों को जोडऩा रहेगी चुनौती-
शहर में अब 35 के स्थान पर 45 वार्ड होंगे। जानकारों का मानना है कि परिसीमन में अगर पैराफेरी गांवों को जोड़ा जाएगा तो शहर के वार्डों में कोई असर नहीं होगा, लेकिन पैराफेरी गांवों को जोडऩा प्रशासन के लिए चुनौती रहेगी। पिछली बार भी ऐसी परेशानी आई थी, हालांकि झालरापाटन व झालावाड़ को कुछ समय के लिए एक किया गया था, लेकिन विरोध के बाद फिर से अलग-अलग कर दिया था।

विकास को मिलेगा बढ़ावा-
वार्डों की संख्या बढऩे से बड़े वार्डों का एरिया कम होगा, इससे शहर के विकास को गति मिलेगी। अब तक कई पार्षद विकास कार्य करवाने के बजाय अपने वार्ड के बड़े होने के कारण व आपसी ङ्क्षखचतान के चलते विकास नहीं करवा पाने का रोना रोते रहते है, अब वार्ड समान होंगे।

ये रखना होगा ध्यान-
-विधानसभा क्षेत्रों की बाउंड्री को नहीं तोड़ा जाए। दो विस क्षेत्र के बीच एक वार्ड भी न बनाए जाए।
- पूरा वार्ड एक ही पुलिस थाने की सीमा में रहे।

ऐसे होगा प्रकाशन-
-प्रस्ताव तैयार करने और उनका प्रकाशन -10 जून से 4 जुलाई तक।
-आपत्ति मांगने और प्राप्त करना- 5 से 15 जुलाई
- आपत्तियां राज्य सरकार को भेजना - 16 जुलाई से 22 जुलाई
- आपतियों का निस्तारण- 23 जुलाई से 6अगस्त
- पुनर्सीमांकन का अंतिम प्रकाशन- 7 अगस्त से 19 अगस्त
- अनुसूचित जाति एवं जनजाति के वार्ड आरक्षण भी निर्धारण प्रक्रिया के अनुरुप अधिकारी चिन्हित करेंगे।

पहली बार कमान नगरीय निकायों को-
प्रदेश में पहली बार वार्डों के पुनर्गठन की कमान जिला कलक्टर की बजाय नगरीय निकायों को वार्ड के पुनर्गठन की जिम्मेदारी दी गई है। नगरीय निकाय के अधिकारी ही वार्डों के पुनर्गठन की प्रक्रिया पूरी कर सूची जिला कलक्टर या जिला निर्वाचन अधिकारी को सौंपेंगे। आदेश में स्पष्ट है कि नगर परिषद / पालिका अधिकारी ही वार्ड का पुनर्गठन करेंगे।

इतने बढ़े वार्ड
नाम जनसंख्या वर्तमान वार्ड नए वार्ड
झालावाड़ नगर परिषद 66919 35 45
भ. मंडी नप 42283 30 40
झालरापाटन नप 37506 25 35
पिड़ावा 12807 15 20
अकलेरा 26240 25 25

तय समय में करेंगे कार्य-
राज्य सरकार के आदेश आए है, उच्चाधिकारियों के निर्देशानुसार तय सीमा में कार्य किया जाएगा।
महावीरसिंह सिसोदिया, आयुक्त नगर परिषद,झालावाड़।

रिपोर्ट- हरिसिंह गुर्जर

Published On:
Jun, 12 2019 08:11 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।