सामूहिक बजट में बहुत कुछ दिया, लेकिन झालावाड़ जिले को नहीं मिला कोई विशेष बजट

By: Hari Singh Gujar

Published On:
Jul, 11 2019 10:52 AM IST

 
  • -मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पेश किया बजट 2019-20

 

rajasthan budget 2019

rajasthan budget 2019 झालावाड़.मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने बजट में किसानों के लिए सौगातों की बौछार की है। वहीं बेरोजगारों को राहत देने के लिए सरकारी महकमों में नई भर्तियों का ऐलान किया है, लेकिन वह भी करीब 75 हजार ही है, ऐसे में लाखों की संख्या में बेरोजगार युवाओं के लिए यह संख्या नाकाफी है। बजट में ज्यादातर घोषणाएं सामूृहिक रुप से की गई है,लेकिन व्यक्तिगत घोषणाओं में जिले के लिए कोई विशेष घोषणाएं नहीं हुई है। जानकारों का कहना है कि बजट पढ़ते समय सीएम एवं वित्त मंत्री अशोक गहलोत द्वारा जोधपुर का नाम कई बार लिया गया है, लेकिन झालावाड़ का नाम एक बार भी नहीं लिया गया है, ऐसे में यह जिले की जनता के साथ अन्याय है। कई योजनाएं व प्रोजेक्ट जोधपुर संभाग में दिए गए है, लेकिन इससे पूर्व सरकार में हर योजना व काम में झालावाड़ का नाम होता था, लेकिन पहली बार जिले का नाम सिर्फ एक स्थान पर राजस्थान जल क्षेत्र आजीविका सुधार परियोजना के तहत 13 जिले के साथ 262 करोड़ के जीर्णोद्धार कार्य के लिए आया है। और कहीं भी जिले के लिए अलग से कोई बजट का कोई प्रावधान नहीं किया गया है, जबकि झालावाड़ से कई छोटे-छोटे जिलों के लिए अलग से बजट घोषणाएं की गई है।

rajasthan budget 2019 news

ये मिल सकती है सौगातें-


उपखंड स्तर पर कॉलेज-
जिन उपखंड स्तर पर कॉलेज नहीं है वहां सरकार द्वारा कॉलेज खोलने की घोषणा की गई है। ऐसे में जिले में दो उपखंड अकलेरा व असनावर में कॉलेज नहीं है। ऐसे में यहां कॉलेज खुलने से बेटियों को दूर दराज से झालावाड़ पढ़ाई के लिए आने की परेशानी दूर होगी।

आवारा पशुओं के लिए बनेगी योजना-
प्रदेश में आवारा पशुओं के लिए योजना बनाने की बात कही गई है। ऐसे में जिले में झालरापाटन कस्बे में हाल ही में सांड की लड़ाई में एक वृद्ध के घायल होने के बाद मौत हो गई थी, लेकिन अब ऐसे हादसों से निजात किल सकेंगी।

cm ashok gehlot news

27 थानों में बनेंगे स्वागत केन्द्र-
प्रदेश के थानों में स्वागत केन्द्र के लिए बजट में प्रावधान किया गया है। ऐसे में जिले के 27 थानों में भी स्वागत केन्द्र बनाए जाएंगे। इससे यहां आने वाले लोगों को राहत मिलेंगी।


नए की घोषणा, पुराने में स्टाफ नहीं-
बजट में प्रदेशभर के लिए 400 नए पशु चिकित्सा केद्र खोलने की घोषणा की गई है। लेकिन जिले में कितने होंगे यह तो बाद में पता चलेगा, लेकिन वर्तमान में 50 फीसदी पशुचिकित्सा केन्द्रों पर स्टाफ नहीं होने से पशुपालकों को काफी परेशानी आ रही है। स्टाफ के लिए भी बजट में प्रावधान करना चाहिए था।

किसानों को राहत-
प्रदेशभर के किसानों के लिए कृषक कल्याण कोष के गठन की घोषणा की गई है। जो किसानों को उनके उत्पादों के लिए सही दाम की व्यवस्था करेगा। इससे जिले के करीब 3 लाख से अधिक किसानों को इसका लाभ होगा। वहीं किसानों के लिए अल्पकालीन फसली ऋण, व जीरो बजट खेती के लिए भी बजट का प्रावधान किया गयाहै। वहीं किसानों को कुसुम योजना के माध्यम से सौर ऊर्जा के क्षेत्र में राहत देने का काम किया गयाहै।

700 से अधिक गोदाम-
प्रदेशभर में 700 से अधिक ग्राम सेवा सहकारी समितियों में गोदाम बनाए जाएंगे, ऐसे में जिले में जहां गोदाम नहीं है, वहां बजट घोषणा के अनुसार अधिकारियों से सूचना मांगकर गोदाम बनाए जा सकते हैं। वहीं जिले की 252 ग्राम पंचायतों में जहां पूर्व में गौरव पथ नहीं है, वहां अब विकासपथ बनाए जा सकेंगे। इससे ग्रामीणों को राहत मिलेगी।

झालावाड़ का नाम एक जगह-
प्रदेश में राजस्थान जल क्षेत्र आजीविका सुधार परियोजना के तहत 13 जिले के साथ झालावाड़ का नाम पूरे बजट में एक ही जगह आया है। इसमें 262 करोड़ 40 लाख रुपए से जीर्णोद्धार के कार्य होंगे। हालांकि जिले में पांच ब्लॉक में ये कार्य जल शक्ति अभियान के तहत भी किए जाएंगे।

औद्योगिक निवेश योजना से आस अधूरी-
प्रदेश में औद्योगिक निवेश और रोजगार के लिए प्रदेश के 11 जिलो का चयन किया गया है। इन जिलों में झालावाड़ का कहीं नाम नहीं है जबकि रीको द्वारा यहां औद्योगिक क्षेत्र चन्द्रावती ग्रोथ सेंटर में एक योजना पहले से अधूर में चल रही है।


चिकित्सा में कुछ नहीं-
चिकित्सा के क्षेत्र में जिले में कोई खास घोषणा नहीं की गई है, हालांकि प्रदेश में 50 नएप्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र खोले गए है जाएंगे, ये कहां खुलेंगे यह बात में तय होगा।
कन्यादान योजना से गरीबों को मिलेगा लाभ-
प्रदेश में अनुसूचित जाति, जनजाति व अल्पसंख्यक बीपीएल परिवारों के लिए मुख्यमंत्री कन्यादान योजना चलाई गई है। इससे गरीब परिवारों की बेटियों को शादी में सहायता मिलेगी।
15 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को मिलेगी राहत-
बजट में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के मानदेय में बढ़ोतरी की घोषणा की गई है। ऐेसे में जिले में 1311 आगंनबाड़ी कार्यकर्ता, 204 मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, 1311 सहायिका व 1311 आशा सहयोगिनियों को राहत मिलेगी।

 

नवजीवन से मिलेगा जीवन-
शराब जैसे धंधे में लगे लोगों के लिए नवजीवन योजना का बजट में प्रावधान किया गया है। लेकिनयह योजना पूर्व में भी कांग्रेस सरकार के समय जिले में शुरु हुई थी, लेकिन अभी कंजर जाति सहित अन्य लोग इसधंधे में लगे हुए है, वह मुख्यधारा नहीं जुट पाएं है।

ऐसे दी लोगो ने बजट पर प्रतिक्रिया

1.बजट मेें मरीजों व किसानों के लिए कई अच्छी घोषणाएं की गई, लेकिन व्यापारियों को राहत देने जैसा कोई काम नहीं हुआ है।
कुशलराज हींगड़, व्यापार संघ अध्यक्ष।


2. बालिकाओं व महिलाओं की सुरक्षा के लिए बजट में कोई प्रावधान नहीं किया है, जबकि आज कल बेटियों की सुरक्षा की बहुत जरुरत है। इसके लिए अलग से प्रावधान करना चाहिए था।
वीणा जैन गृहिणी,झालावाड़।


3. गृहिणीयों की रसोई के बारे में बजट में कुछ भी नहीं है, महिलाओं की रसोई का बजट बिगड़ रहा है। इस दिशा में भी कदम उठाने चाहिए थे।
मासूम, गृहिणी,झालावाड़।


4. व्यापारियों के लिए निर्यात प्रोत्साहन नीति बनाने की बात की गई, लेकिन पूरे बजट में झालावाड़ कहीं नाम नहीं है। इससे लोगों को निराशा हुई है।
भूपेन्द्र सिंह हाड़ा।


5. इस बार का बजट किसानों के लिए अच्छा बजट है, किसानों की फसलों के उत्पाद का उचित मूल्य मिले, इस दिशा में पहली बार काम हुआहै, लेकिन जिले के लिए बजट में कोई प्रावधान नहीं किया है।
ओम अग्रवाल, व्यापारी।


6.बजट काफी अच्छा है, लेकिन युवाओं को आगे बढ़ाने व विदशों में शिक्षा प्राप्त करने के लिए कोई विशेष प्रयास नहीं कियागया है।भारत का एक मात्र जल दुर्ग है जहां रोप वे देकर पर्यटन को बढ़ावा दिया जा सकता था। ताकि यहां टाइगर आने से ओर लोग पर्यटक आकर्षित होते।
आयुष,युवा।


7. सबसे बड़ी समस्या बेरोजगारी है। इसके लिए बजट में कोई प्रावधान नहीं किया गया है। जिले के लिए बजट में कोई विशेष काम नहीं किया है, लोगों के पास रोजगार नहीं होगा तो व्यवसाय भी कैसे चलेगा।
गोविन्द खत्री,झालावाड़।

 


महिलाओं के लिए बजट में कोई विशेष प्रावधान नहीं किये गए है, जबकि महिलाओं की समाज में बहुत बढ़ी भूमिका होती है। महिला समाज का अभिन्न अंग है। उन्हें नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है, सरकार को इस दिशा में सोचना चाहिए।
ज्योतिप, पूजा,झालावाड़

 

महिला सुरक्षा व बेटी-बचाओं बेटी पढ़ाओं की बात हो रही है। लेकिन कोई बजट जारी नहीं किया गया है। महिलाओं के लिए श्रंगार के सामानों की दर सस्ती करनी चाहिए थी। ताकि महिलाओं के ऊपर ज्यादा बोझ नहीं पड़े।
रेखा, आरती,झालावाड़


.इस बार बजट में किसानों को काफी राहत दी गई है, पहली बार किसानों के उत्पाद के लिए उचित मूल्य मिले, इसके लिए बजट दिया गया है, जीरो बजट खेती के लिए भीबात की गई है।
केवलचन्द पाटीदार,किसान।
.बजट में मजदूरों के लिए कोई प्रावधान नहीं किया गयाहै, मनरेगा योजना की बात की गई है, लेकिन ये ग्रामीणा क्षेत्रों में चलती है शहरी मजदूरों केलिए बजट में सस्ती दर पर दुकाने आदि देने की घोषणा होनी चाहिए थी।
सुभाष सेन,झालावाड़

बजट में झालावाड़ के साथ सौतेला व्यवहार किया गया है, हर जगह जोधपुर का नाम है, जबकि झालावाड़ जिले में कोई बजट नहीं दिया गया है। ये झालावाड़ की जनता के साथ अपमान है।
नवल किशोर, प्रजापति,झालावाड़।

 

बजट किसानों, गरीबों व मध्यम वर्ग सभी का ध्यान रखा गया है, तीन साल तक लघु उद्योग लगाने के लिए किसी एनओसी की जरुरत नहीं, पहले चक्कर लगाकर थक जाते थे।लेकिन मुख्यमंत्री जी ने सभी का ध्यान रखा है।
कैलाश मीणा, जिलाध्यक्ष कांग्रेस,झालावाड़।


बजट में कोई विशेष प्रावधान जिले के लिए नहीं किया गया है। प्रदेश में बेरोजगार युवाओं के लिए मात्र 75 हजार भर्तियों घोषणा की गई है, बजट पूरी तरह से निराशाजनक है।
संजय जैन, जिलाध्यक्ष भाजपा,झालावाड़।

Published On:
Jul, 11 2019 10:52 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।