कैबिनेट मंत्री रीता बहुगुणा जोशी की बैठक में हंगामा, ज़िला पंचायत सदस्यों ने किया वाक आउट

By: Mohd Rafatuddin Faridi

Updated On: Sep, 12 2018 07:01 PM IST

  • ज़िला योजना की बैठक में मंत्री पर लगा दुर्व्यवहार का आरोप।

जौनपुर. यूपी के जौनपुर ज़िले की प्रभारी मंत्री रीता बहुगुणा जोशी पर मीटिंग में जिला पंचायत सदस्यों से दुर्व्यवहार का आरोप लगाया गया है। मंत्री जी के दुर्व्यवहार से नाराज़ ज़िला पंचायत सदस्यों ने जिला योजना की बैठक में बुधवार को हंगामा खड़ा कर दिया। 57 सदस्यों में से 33 सदस्य बैठक का बहिष्कार करते हुए सदन से बाहर निकल गये। बहिष्कार के बाद भी बैठक का कोरम पूरा दिखा कर प्रस्ताव पास कर दिया गया। हलांकि जिला पंचायत अध्यक्ष राजबहादुर यादव कई बार सदस्यों को समझाने-बुझाने में जुटे रहे, पर नतीजा सिफर ही रहा। रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि ये लोग पहले से ही बहिष्कार करने का मन बनाकर आये थे। कार्यवाही रजिस्टर पर किसी ने हस्ताक्षर भी नहीं किया था। बैठक में सर्वसम्मति से छह अरब 57 लाख रूपये की योजना का प्रस्ताव पास हुआ है।

 

Rita Bahuguna Joshi

 

जिला योजना की बैठक कई बार किसी न किसी वजह से टाल दिया गया था। आज सूबे की कैबिनेट मंत्री व जिले की प्रभारी मंत्री रीता बहुगुणा जोशी की अध्यक्षता में बैठक शुरू हुई। बैठक शुरू होते ही जिला पंचायत के 31 सदस्य और नगर निकाय के दो सदस्यों ने जिला योजना में अपने-अपने प्रस्ताव को शामिल करने की मांग करने लगे। उनकी शिकायत थी कि हर बार उन लोगों की योजनाओं को शामिल नहीं किया जाता। केवल अगली बार शामिल करने का लालीपॉप दिया जाता है।

 

आरोप है कि उनकी मांगों को दबाने के लिए रीता बहुगुणा ने बैठक के दौरान अपशब्द कहे। अपमानित करते हुए यह भी कह दिया की वे लोग सदन के सदस्य तक नहीं हैं। इसके बाद वहां बवाल खड़ा हो गया। देखते ही देखते सदस्य बहिष्कार कर बाहर निकल गए। बैठक में सपा विधायक पारसनाथ यादव, शैलेन्द्र यादव ललई और जगदीश सोनकर पहले से ही मौजूद नहीं थे। बसपा विधायक सुषमा पटेल बैठक में शामिल हुईं लेकिन बैठक समाप्त होने से पूर्व ही सदन से निकल गईं। प्रभारी मंत्री के रवैये से लोगों में आक्रोश दिखा।

By Javed Ahmad

Published On:
Sep, 12 2018 06:53 PM IST