बारामूला:मानवता हुई शर्मसार,सौतेली मां के इशारे पर सामूहिक दुष्कर्म, आंखें निकाल शव को तेजाब से जलाया

By: Prateek Saini

Published On:
Sep, 05 2018 05:16 PM IST

  • मानवता और रिश्तों को शर्मसार करने वाले इस कृत्य को मृतका की सौतेली मां न सिर्फ देखती रही बल्कि उसने ही गला दबाकर मासूम को मार डाला...

(श्रीनगर): जम्मू-कश्मीर के बारामूला जिले मे नाबालिग के साथ हैवानियत के मामले में दिल दहला देने वाला मामला सम्मने आया है। उत्तरी कश्मीर में नियंत्रण की रेखा (एलओसी) के साथ सटे उड़ी सेक्टर में एक नाबालिग ने अपनी मां के इशारे पर पहले अपने दोस्तों के साथ अपनी नौ वर्षीय सौतेली बहन से सामूहिक दुष्कर्म किया। इसके बाद उसकी निर्ममता से हत्या कर दी।


निजी अंगों पर उडेला तेजाब,सिर पर कुल्हाडी से वार

मानवता और रिश्तों को शर्मसार करने वाले इस कृत्य को मृतका की सौतेली मां न सिर्फ देखती रही बल्कि उसने ही गला दबाकर मासूम को मार डाला। हत्या के बाद बच्ची के शव को नष्ट करने का प्रयास किया गया। उसकी आँखे निकाल ली गई। उसके निजी अंगो पर तेज़ाब डाल दिया। इससे के बाद उस के सिर पे कुल्हाड़ी से वॉर किया गया।


बरामूल्ला जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, सैयद इम्तियाज हुसैन ने बताया कि नौ साल बच्ची से दुष्कर्म और हत्या के आरोप में पुलिस ने बच्ची की सौतेली मां और भाई समेत पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। जाँच से पता चला की मां ने ईर्ष्या की वजह से सौतेली बेटी की हत्या की योजना बनाई और हत्यारों की मदद भी की। उसने अपने ही बेटे से बेटी का दुष्कर्म जैसा घिनौनी कम भी करवाया। हुसैन ने बताया की बच्ची का क्षत-विक्षत शव 2 सितम्बर को उरी तहसील के जंगल से बरामद किया गया था। उन्होने कहा कि जो हैवानियत इस बच्ची के साथ हुई है, मैं इसे बयान भी नही कर सकता।

 

24 अगस्त से लापता थी बच्ची

उन्होंने कहा कि बच्ची के पिता मुश्ताक अहमद गनाई ने अपनी बेटी के लापता होने की शिकायत दर्ज कराई थी। पिता के मुताबिक बच्ची अगस्त 24 से लापता थी और उन्होंने आशंका जताई थी कि उनकी बेटी को अगवा किया गया है।


बच्ची के पिता की दो पत्नियां

जांच के दौरान पुलिस ने पाया कि लड़की के पिता की दो पत्नी हैं, जिनमे से एक झारखंड की निवासी है। बच्ची की मां मुश्ताक की दूसरी पत्नी है। उसकी पहली पत्नी फहमीदा अधिकतर समय घर से बाहर रहकर काम करती थी, जबकि दूसरी पत्नी खाना पकाने के लिए घर में रहती थी। पुलिस अधिकारी ने बताया कि फहमीदा अपने पति की दूसरी पत्नी गैर कश्मीरी खुशबू और उसकी बेटी से लंबे समय से नफरत करती थी क्योंकि उसे लगता था कि उसका पति अपनी दूसरी पत्नी से ज्यादा प्यार करता है।


सडे-गले हालात में मिला था बच्ची का शव

फहमीदा ने ईर्ष्या में आकर अपनी सौतेली बेटी को मारने की साजिश रची। गत 2 सितम्बर को लापता लड़की का शव उसके घर से एक किलोमीटर दूर सड़े-गले हालात में बरामद हुआ था। जब शव मिला था, तब पुलिस ने जांच के लिए सिट (विशेष जांच टीम) भी बनाई थी। टीम ने संदिग्ध लोगों और मृतका के मां-बाप व अन्य रिश्तेदारों से पूछताछ की। इस दौरान मृतका की सौतेली मां के बयान संदेहास्पद लगे।


ईर्ष्या के चलते दिया वारदात को अंजाम

जाँच के दौरान शक़ की सुई बच्ची के सौतेली मां फहमीदा की तरफ जानी लगी। सख्ती से पूछताछ की तो उसने कबूला कि वह अपनी सौतन और उसके बच्चों से ईर्ष्या करती थी। उसने अपनी सौतेली बेटी को रास्ते से हटाने का फैसला किया।

 

जंगल में ले गई सौतेली मां बेटे से करवाया रेप

जाँच मे पता चला की 23 अगस्त को फहमीदा अपनी सौतेली बेटी को लेकर जंगल में गई। उसने अपने बेटे को भी बुलाया जो अपने दो दोस्तों के साथ जंगल में पहुंच गया। इनके अलावा एक अन्य युवक ने भी इस कृत्य में उनका साथ दिया। सौतली मां के कहने पर सभी ने लड़की से दुष्कर्म किया। इसके बाद लड़की की हत्या कर दी।


रेप के बाद चेहरे पर फैंका तेजाब

हत्या के बाद भाई ने लड़की के चेहरे पर तेजाब फैंक दिया ताकि पहचान न हो सके। पूछताछ के दौरान यह साबित हो गया की सौतेली मां फहमीदा ही बच्ची को जंगल ले गई और चार अन्य लोगों के साथ अपराध को अंजाम दिया जिसमें उसका 14 वर्षीय बेटा, उसका दोस्त कैसर अहमद (19), नासिर अहमद (28) व एक एक अन्य 14 वर्षीय लड़का शामिल था। पुलिस ने सभी आरोपितों को गिरफ्तार करने के साथ वारदात में प्रयुक्त कुल्हाड़ी, चाकू और तेजाब की बोतल बरामद कर ली है।

Published On:
Sep, 05 2018 05:16 PM IST