हुर्रियत की अगुवाई वाले संयुक्त प्रतिरोध नेतृत्व (जेआरएल) ने निकाय और पंचायत चुनाव के बहिष्कार की अपील की

Prateek Saini

Publish: Sep, 04 2018 02:08:18 PM (IST)

जम्मू-कश्मीर पंचायत चुनाव में मतदान को लेकर खींचतान चल रही है...

(पत्रिका ब्यूरो,जम्मू): हुर्रियत कॉन्फ्रेंस की अगुवाई वाली संयुक्त प्रतिरोध नेतृत्व (जेआरएल) ने लोगों से स्थानीय निकाय और पंचायत चुनाव का बहिष्कार करने को कहा है। सोमवार को गिलानी ने लोगों के बीच जाकर अपील की कि वे जम्मू-कश्मीर में होने वाले इन दोनों चुनावों में हिस्सा न लें। हुर्रियत कॉन्फ्रेंस कट्टरपंथी धड़े के अध्यक्ष सैयद अली शाह गिलानी, हुर्रियत कॉन्फ्रेंस नरमपंथी धड़े के अध्यक्ष मीरवाइज उमर फारूक और जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के अध्यक्ष यासीन मलिक ने एक संयुक्त बैठक के बाद यह फैसला लिया।

हर चुनाव के खिलाफ हुए मुखर

जारी बयान में कहा गया है कि भारतीय अधिकारी चुनावों में लोगों के शामिल होने को अपने पक्ष में फैसले की तरह दिखा रहे हैं और इस तरह वैश्विक समुदाय को भ्रमित कर रहे हैं। इतना ही नहीं, तीनो ने कहा कि स्थानीय निकाय और पंचायत चुनाव के बाद लोग विधानसभा चुनाव और लोकसभा चुनाव समेत आने वाले हर चुनावों का बहिष्कार करें। ऐसा पहली बार नहीं हो रहा है, जब कश्मीर में लोगों से चुनाव बहिष्कार करने की अपील की गई है। इससे पहले 2014 के विधानसभा चुनाव में भी चुनाव बहिष्कार की घोषणा की गई थी।


चुनाव में भाग लेने की अपील कर रहे स्थानीय नेता

बता दें कि जम्मू-कश्मीर पंचायत चुनाव में मतदान को लेकर खींचतान चल रही है। प्रदेश की राजनीतिक हस्तियां प्रदेशवासियों को इस चुनाव में बढ चढकर हिस्सा लेने के लिए प्रेरित कर रहे है वहीं हुर्रियत कॉन्फ्रेंस जैसे संगठन चुनाव का बहिष्कार करने की बात कर रहे है। इन बातों से यह जाहिर है कि चुनाव काफी मशक्कत के बाद संपन्न हो पाएंगे। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. फारूक अब्दुल्ला ने आमजन से मतदान में भाग लेने की अपील की थी। उन्होंने लोगों से चुनाव में भाग लेने की अपील करते हुए कहा था कि अगर आप बेहतर जिन्दगी, अमन और शांति चाहते हो तो वोट डालकर जमीनी स्तर पर ऐसे प्रतिनिधि को चुने जो आपको मुसीबतों से निकाल सके।

यह भी पढे: डॉ. फारूक अब्दुल्ला की बेहतर जिंदगी के लिए पंचायत चुनाव में भाग लेने की अपील

More Videos

Web Title "Hurriyat leaders appealed for boycott of panchayat elections inkashmir"