यहां सफर खतरे से खाली नहीं

By: Khushal Singh Bhati

Updated On:
11 Sep 2019, 10:28:36 AM IST

  • बागोड़ा. क्षेत्र में बारिश के बाद भालनी-मोरसीम डामरीकृत सड़क क्षतिग्रस्त होने से वाहन चालकों को आवाजाही में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

बागोड़ा. क्षेत्र में बारिश के बाद भालनी-मोरसीम डामरीकृत सड़क क्षतिग्रस्त होने से वाहन चालकों को आवाजाही में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। उपखंड मुख्यालय से 22 किमी दूर भालनी-मोरसीम मार्ग पर राहगीरों व वाहन चालकों की आवाजाही को सुगम बनाने के लिए पीडब्ल्यूडी ने ढाई साल पहले लाखों रुपए खर्च कर करीब पांच किमी से ज्यादा डामरीकरण करवाया था। लेकिन भालनी गांव से महज आधा किमी दूर बारिश के पानी बहाव की अनदेखी कर पुलिया बनाने की जगह डामर सड़क बना दी। अब हालात यह है कि खेतों में से बहते बारिश के पानी के बहाव से सड़क क्षतिग्रस्त हो गई है। ग्रामीणों व वाहन चालकों ने आरोप लगाया है कि विभागीय अनदेखी की वजह से पुलिया निर्माण या सुरक्षा दिवार नहीं करने से सड़क बारिश के दौरान टूट रही है।
उठा रहे लोगों की मजबूरी का फायदा...
सड़क पर गहरा कटाव होने से उसमें होकर मोरसीम व खेतों मे जरुरी सामान ले जाते वक्त ट्रैक्टर ट्रॉली व अन्य भारी वाहन इसमें धंस जाते है।धंसे वाहनों को निकालने के लिए जेसीबी बुलानी पड़ती है। ऐसे में वाहन को बाहर निकालने के लिए वाहनचालकों को रुपए चुकाने पड़ रहे है।
इसी तरह जुना चैनपुरा से लाखनी सड़क पर बबूलों के बढऩे से सामने से आने वाले वाहन नहीं दिखने से हादसे को न्योता दे रही है।

नर्मदा डिग्गी यूनियन की बैठक आयोजित
सांचौर. नर्मदा नहर किसान डिग्गी यूनियन की बैठक मंगलवार को ईश्राराम बिश्नोई की अध्यक्षता में डाक बंगले में हुई। जिसमें किसानों की विभिन्न समस्याओं पर चर्चा कर रणनीति बनाई गई। इस दौरान संगठन पदाधिकारियों ने कहा कि समस्याओं को लेकर अधिकारियों को लिखित में अवगत करवाने के बावजूद ध्यान नहीं दिया जा रहा है। जिसके विरोध में १६ सितम्बर को जिला मुख्यालय पर किसन धरना प्रदर्शन करेंगे। डिग्गी यूनियन अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना २०१८ का क्लेम, भारतमाला परियोजना को एनएच ६८ पर चलाने व नर्मदा नहर के टेल तक पानी पहुंचाने समेत विभिन्न समस्याओं को लेकर धरना प्रदर्शन करने का निर्णय किया गया। इस मौके किसान सभा के अध्यक्ष रिड़मलसिंह गुंदाऊ, राजस्थान किसा सभा के अध्यक्ष मकाराम चौधरी, ओखदान चारण व जयराम बिश्नोई सहित कई जने मौजूद थे।

Updated On:
11 Sep 2019, 10:28:36 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।