राव समाज की ये प्रतिभाएं इसलिए हुई सम्मानित

By: Khushal Singh Bhati

Updated On:
13 Aug 2019, 11:03:52 AM IST

  • शहर के बगस्थली माता मंदिर परिसर में सोमवार को राव महासभा के तत्वावधान में शासनिक राव समाज की पांच पट्टी का प्रतिभा सम्मान समारोह हुआ।

भीनमाल. शहर के बगस्थली माता मंदिर परिसर में सोमवार को राव महासभा के तत्वावधान में शासनिक राव समाज की पांच पट्टी का प्रतिभा सम्मान समारोह हुआ। समारोह की शुरूआत अतिथियों ने सरस्वती पूजन व वंदना के साथ की। समारोह को संबोधित करते हुए सेवानिवृत आरएएस बाघसिंह राव ने कहा कि शिक्षित समाज की विकसित समाज है। इसलिए समाज में शिक्षा का स्तर उच्चतम होना चाहिए। उन्होनें कहा कि प्रतिभाएं ही समाज की धरोहर है। उन्होंने कहा कि शिक्षित मां सौ शिक्षकों के समान हैं। इसलिए बालिका शिक्षा पर समाज को ध्यान देना चाहिए। मुख्य वक्ता कुलदीपसिंह भींटवाडा ने कहा कि समाज में एक-दूसरे के जुड़ाव से ही समाज की प्रतिभाएं बाहर आएगी। इसलिए समाज हर व्यक्ति को एकजुटता दिखानी चाहिए। उन्होंने कहा कि बच्चों को संस्कार परिवार से ही मिलते है। संस्कारित परिवार हमेशा प्रगति की ओर अग्रसर होता है। उन्होंने कहा कि आधुनिकता में मोबाइल के कारण बच्चे गलत रास्ते पर जा रहे है। इसलिए अभिभावकों का कत्र्तव्य बनता है कि वह बच्चों को इस बीमारी से दूर रखकर अच्छी शिक्षा के लिए प्रेरित करें। शिक्षाविद् महेंद्रसिंह ने कहा कि समाज का निर्माण एक-एक व्यक्ति से होता है। समाज के हर एक व्यक्तिके शिक्षित व संपन्न होने पर श्रेष्ठ समाज का निर्माण होगा। उन्होंने कहा कि समाज की हर प्रतिभा को आगे बढऩे की प्रेरणा देनी चाहिए। ऐसे आयोजनों से समाज की प्रतिभाएं निखरती है। उन्होंंने प्रतिभाओं को निरंतर लग्न व संकल्प के साथ लक्ष्य की ओर बढऩे का आह्वान किया। समारोह को क्षेमंकरी माता मंदिर ट्रस्ट अध्यक्ष सरदारसिंह ओपावत, हड़मतसिंह काछवी, मोहनसिंह चांचौड़ी, दिनेशसिंह सणवाल ने भी संबोधित किया। मंच का संचालन भंवरसिंह राव ने किया। इस मौके भाजपा नगराध्यक्ष भरतसिंह भोजाणी, गुमानसिंह, मोहनसिंह मणधर, छोगसिंह बोरली, मोहब्बतसिंह, शैतानसिंह सेवड़ी, बाबूसिंह, मदनसिंह कोड़ीटा, पृथ्वीसिंह, अशोकसिंह ओपावत, उ?मेदसिंह बोरली, सतीशसिंह, नारायणसिंह व प्रेमसिंह सहित कई समाजबंधु मौजूद थे।
125 प्रतिभाएं सम्मानित
समारोह में अतिथियों ने पांचवी, आठवीं, दसवीं व 12वीं बोर्ड, राजकीय सेवा में नवचयनित कर्मचारियों को मोमेन्टों व प्रशस्ति-पत्र देकर सम्मानित किया। समारोह में समाज की 125 प्रतिभाओं का सम्मान किया गया। समारोह में समाज की मातृशक्ति ने भी बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया।
यज्ञ में दी आहुतियां
समारोह से पूर्व मंदिर परिसर में महामृत्युंजय यज्ञ का आयोजन हुआ। यज्ञ में यजमानों ने आहुतियां देकर शिव की उपासना की।

Updated On:
13 Aug 2019, 11:03:52 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।