छत पर टंकियों में उबल रहा पानी, हाथ धोना मतलब झुलसना

By: Jitesh kumar Rawal

Published On:
Jun, 12 2019 11:18 AM IST

  • www.patrika.com/rajasthn.news

भीषण गर्मी और लू के थपेड़ों में हलकान हो रहे लोग, तपती धरती और बरसते अंगारों से हर कोई बेहाल


जालोर. पिछले एक सप्ताह से पड़ रही भीषण गर्मी से लोग हलकान हो रहे हैं। सुबह नौ बजते ही सूरज आग उगलने लगता है। गर्म हवा के थपेड़े रही-सही कसर पूरी कर रहे हैं। भीषण गर्मी से घरों की छत पर रखी पानी टंकियां गर्म हो रही है, जिससे हाथ धोने में भारी मशक्कत करनी पड़ जाती है।
पिछले कुछ दिनों से शहर समेत जिलेभर में यहीं स्थिति है। अधिकतम तापमान 44 से 45 डिग्री के आसपास झूल रहा है। ऐसे में लोग तपन से दिनभर बेहाल नजर आते हैं। गर्मी से दोपहर में सड़कों पर सन्नाटा पसर जाता है। इक्का-दुक्का लोग ही नजर आते हैं। दोपहर को आसमान से बरसती आग से पस्त लोग घर व दफ्तरों में दुबकने लगे हैं। लू के थपेड़ों से बेहाल पशु-पक्षी भी दिनभर छांव की तलाश में नजर आते हैं। मंगलवार को अधिकतम तापमान 43 डिग्री व न्यूनतम तापमान 29 डिग्री दर्ज किया गया।


धूप से मिली हल्की राहत
भीषण गर्मी के बीच मौसम एक बार फिर करवट बदल रहा है। आसमान में बादलों की आवाजाही बनी रहने से मंगलवार को धूप से हल्की राहत का अहसास किया गया। हालांकि उष्ण हवा का दौर एवं गर्मी व उमस का कहर बराबर बना रहा, लेकिन तेज धूप से कुछ राहत मिली।


सूर्यदेव का रौद्र रूप जारी
भीनमाल. क्षेत्र में सूर्यदेव का रौद्र रूप जारी है। सुबह से ही सूर्य की किरणें लोगों के शरीर में नश्तर की भांति चूभती है। दोपहर में तो आसमान से अंगारे बरसने लगते है। दोपहर बाद कूलर बेअसर हो रहे है।

Published On:
Jun, 12 2019 11:18 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।