पौधरोपण कर दिया पर्यावरण संरक्षण का संदेश

By: Jitesh kumar Rawal

Published On:
Aug, 13 2019 04:33 PM IST

  • www.patrika.com/rajasthan.news

जिलेभर में शिक्षण संस्थानों समेत अन्य स्थानों पर संरक्षण की शपथ के साथउत्साह से लोगों ने किया गया पौधरोपण


भीनमाल. शहर के सार्वजनिक श्मसान में रविवार शाम को हिंदू सेवा समिति के तत्वावधान में पौधरोपण कार्यक्रम हुआ। समिति के सदस्यों ने श्मसान में विभिन्न जातियों के पौधे लगाकर पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पालिकाध्यक्ष सांवलाराम देवासी ने कहा कि औद्योगिकीकरण के चलते देश में वृक्षों की संख्या कम होने से पर्यावरण प्रदूषण बढ़ रहा है। बढ़ता पर्यावरण प्रदूषण मनुष्य के लिए खतरा बनता जा रहा है। इसलिए पर्यावरण प्रदूषण को कम करने के लिए पौधरोपण की महत्ती आवश्यकता है।

उन्होनें कहा कि हर व्यक्ति को जीवन में एक पौधा लगाकर उसका संरक्षण करना चाहिए। कार्यक्रम मेें पालिका उपाध्यक्ष जयरूपाराम माली व समिति के अध्यक्ष मोहनलाल परिहार ने भी विचार व्यक्त किए। इस मौके समिति के सचिव जबराराम भाटी, कोषाध्यक्ष केदारश्वर शर्मा, सह कोषाध्यक्ष परबतसिंह सोलंकी, जूठाराम सेन, कालूसिंह सोलंकी, किसनाराम माली, कुलदीप याज्ञी, हनुमान शर्मा, तरुण दवे, केवलाराम परमार, उदाराम वैष्णव, हरीश चौधरी, देवेंद्र भंडारी, मंगलाराम सेन, पूराराम, पुखराज लखारा, रमेश लखारा, यूथ फॉर नेशन के अध्यक्ष सतीश सेन, ललित होण्डा, दिनेश जोशी व पारस सेन सहित कई लोग मौजूद थे। इसी तरह शिवराज स्टेडियम में नेहरू युवा केंद्र जालोर के तत्वावधान में पौधरोपण किया गया। युवा केन्द्र के स्वयंसेवकों ने पौधे लगाकर पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया। इस मौके चोखाराम जाणी, पारसमल काबावत, श्रवण काबावत, विजय बंजारा, प्रकाश कुमार, हीरालाल व करण कुमार सहित कई लोग मौजूद थे। कोड़का गांव के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के कर्मचारियों ने विद्यालय में पौधरोपण किया। इस मौके ठाकराराम, मिश्राराम, भारमल चौधरी, विशनाराम, मंगलाराम, उदाराम, थानाराम, प्रहलादराम, मफतलाल व वागाराम सहित कई जने मौजूद थे।


सांचौर. शहर के अमृता देवी शिक्षण संस्थान में सोमवार को पौधरोपण किया गया। इस दौरान डॉ. भूपेन्द्र बिश्नोई ने पौधा लगाकर कार्यक्रम की शुरूआत की। विश्नोई ने कहा कि पेड़-पौधे धरती का शृंगार है।ऐसे में प्रत्येक व्यक्ति को एक पौधा लगाना चाहिए। ताकि पर्यावरण संतुलन बना रहे। उन्होंने कहा कि अमृतादेवी बिश्नोई ने पेड़ों की रक्षा के लिए ३६३ लोगों के साथ बलिदान दिया था जिसे कोई भुला नहीं सकता। संस्थान अध्यक्ष श्रीराम गोदारा ने कहा कि शिक्षा के साथ-साथ पेड़ पौधों को लेकर भी जागरूकता लाना समय की जरूरत है। इस मौके चितलवाना बीडीओ जगदीश बिश्नोई, सांचौर नगरपालिका नेता प्रतिपक्ष बीरबल बिश्नोई, राजूराम बिश्नोई, जगदीश गोदारा, पीसी पूनीया, प्रधानाचार्य भीखाराम बिश्नोई, मंगलाराम खोखर, पटवारी अशोक खीचड़, शिक्षक संघ प्रतिशील के अध्यक्ष किशनलाल सारण, बाबुलाल कुराड़ा व छोगाराम सारण सहित कई जने मौजूद थे। इसी प्रकार बलदेव राम मिर्धा जाट समाज सेवा संस्थान में चितलवाना तहसीलदार प्रेमाराम की मौजूदगी में विभिन्न प्रजाति के पौधे लगाकर उनके रखरखाव की जिम्मेदारी सौंपी गई। कार्यक्रम में तहसीलदार व समाज अध्यक्ष जालाराम पूनिया ने पर्यावरण की महत्ता बताई। इस दौरान धर्मशाला में स्थित शिव मंदिर में पंडित दिलीप श्रीमाली ने अभिषेक करवाया। पूनमाराम गोदारा ने बताया कि शिव मन्दिर में पंचामृत से समाजबंधुओं ने अभिषेक किया। इस अवसर पर सवाईराम जाखड़, रामलाल सारण, रामचंद्र जाखड़, सरपंच लक्ष्मण सारण, मंगलाराम लोल, सुखराम गोदारा, विरधाराम सारण, पटवारी हरिराम, गणेश सियाक, पूनाराम गोदारा, टीकम चारण, खियाराम, रामलाल, नरेंद्र व हरीराम साहू समेत संस्था में निवासरत छात्र-छात्राएं और महिलाएं मौजूद रही। इसी प्रकार रेगर युवा परिषद एवं रेगर कर्मचारी संघ के संयुक्त तत्वावधान में शहर स्थित समाज के मुक्तिधाम में विभिन्न प्रजाति के ७५ पौधे लगाकर समाज के युवाओं ने उनके रखरखाव की जिम्मेदारी ली। कार्यक्रम में कार्यकारिणी अध्यक्ष नेमीचंद खोरवाल, उपाध्यक्ष पुखराज चौहान, सचिव मदन गोसाई, कोषाध्यक्ष ओम बंशीवाल, किशन फुलवरिया, महेंद्र चौहान, खेराज गोसाई, भीमचंद गोसाई, विशन फुलवारिया, करण खोरवाल, रमेश जाटोल, राजू फुलवरिया, नेमीचंद बंशीवाल, ललित खोरवाल, पीराराम गोसाई, सांवल खोरवाल व संयोजक कैलाश गोसाई सहित कई युवा मौजूद रहे।

Published On:
Aug, 13 2019 04:33 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।