श्रावण का चौथा सोमवार:शिवमयी हुई स्वर्णनगरी,जयकारों से गूंजे शिवालय

By: Deepak Vyas

Updated On:
12 Aug 2019, 08:58:32 PM IST

  • ऊं नम: शिवाय, ऊं त्रयम्बकं यजामहे.., जय शिव ओंकारा, जय शिव शंकर.. जैसे जयकारों से शिव मंदिर गूंज उठे। जिले के कई शिव मंदिरों में सहस्त्रघट व रुद्राभिषेक कर भगवान शिव का जलाभिषेक किया गया। मौका था श्रावण के चौथे सोमवार को मंदिरों में दिन भर शिव आराधना का दौर चलता रहा। श्रावण के चौथे सोमवार को जिले के शहरी व ग्रामीण अंचलों में शिवभक्तों ने शिव आराधना कर मंगल कामना की।

जैसलमेर. ऊं नम: शिवाय, ऊं त्रयम्बकं यजामहे.., जय शिव ओंकारा, जय शिव शंकर.. जैसे जयकारों से शिव मंदिर गूंज उठे। जिले के कई शिव मंदिरों में सहस्त्रघट व रुद्राभिषेक कर भगवान शिव का जलाभिषेक किया गया। मौका था श्रावण के चौथे सोमवार को मंदिरों में दिन भर शिव आराधना का दौर चलता रहा। श्रावण के चौथे सोमवार को जिले के शहरी व ग्रामीण अंचलों में शिवभक्तों ने शिव आराधना कर मंगल कामना की। रुद्राभिषेक के दौरान शिव मंदिरों में विशेष अनुष्ठान हुए, जिससे लोगों ने दिन भर वेदमंत्रों के उच्चारण के साथ भगवान का जलाभिषेक किया। स्वर्णनगरी स्थित देवचन्द्रेश्वर मंदिर में सोमवार को मेला भरा, जिसमें शहरी क्षेत्र के साथ ग्रामीण अंचलों से आए श्रद्धालु महिलाओं व पुरुषों ने शिवलिंग पर जल अर्पित कर पूजा-अर्चना की। मेले के दौरान महिलाओं ने खरीदारी भी की, जिससे शिव रोड पर दिन भर भीड़ जमा रही। इसी तरह यहां गड़ीसर स्थित मुक्तेश्वर महादेव मंदिर में भी रुद्राभिषेक के साथ विशेष अनुष्ठान किए गए। बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने भाग लिया। शिव मंदिर में दिन भर रुद्राभिषेक के वेद मंत्रों से शिव आराधना चलती रही। शाम को शांतिपाठ, शिव आरती के साथ पूर्णाहुति की गई। जैसलमेर स्थापना काल से जैसलमेर शहर के शिवरोड स्थित देवचन्द्रेश्वर महादेव मंदिर में श्रावण के सोमवार को भरा जाने वाला मेला चौथे सोमवार को भी भरा गया। इससे यहां दिनभर चहल-पहल रही।

Updated On:
12 Aug 2019, 08:58:32 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।