स्वच्छता की निरन्तरता को लेकर जिला स्तरीय कार्यशाला

By: Deepak Vyas

Published On:
Sep, 12 2018 10:29 AM IST

  • स्वच्छता की सोच से ही समग्रता सम्भव

जैसलमेर. स्वच्छता की सोच से ही समग्र विकास की धारणा परिपूर्ण हो सकती है। यह बाध्यता की बजाय आदत बन जाने पर ही सर्वत्र परिलक्षित होगी । यह विचार जिला कलक्टर ओम कसेरा ने स्वच्छता की निरन्तरता को लेकर जिला स्तरीय कार्यशाला के दौरान जिला कलेक्ट्रेट स्थित डीआरडीए सभाकक्ष में व्यक्त किए ।
इस मौके पर जिला कलक्टर ने आह्वान किया कि आमजन को स्वच्छता को बाहरी बाध्यता की बजाय अपने भीतर से स्वप्रेरणा के रूप में अपनाना होगा। उन्होंने बताया कि जैसलमेर जैसे जिले में जहां 90 प्रतिशत जनसंख्या ग्रामीण क्षेत्रों में निवास करती है, वहां स्वच्छता की निरन्तरता अतिआवश्यक है । उन्होंने बताया कि स्वच्छ भारत अभियान का आशय केवल शौचालय निर्माण तक ही सीमित नहीं है, बल्कि इसको जन आंदोलन बनाकर निरन्तर रखने की महती आवश्यकता है । उन्होंने बताया कि हमें शौचालय निर्माण से आगे की सोच अपनाकर समग्र परिवेष में स्वच्छता रखनी होगी। कसेरा ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री सभी से स्वच्छता को एक आदत के रूप में अपनाने की बात करते है । जिस पर हर व्यक्ति को अमल करने की आवश्यकता है। विधायक छोटूसिंह भाटी ने स्वच्छता में सभी की भागीदारी का आह्वान किया। जिला प्रमुख अंजना मेघवाल ने ग्रामीण क्षेत्रों में सार्वजनिक स्थलों पर स्वच्छता की आवश्यकता पर बल दिया। इससे पूर्व जिलापरिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रामेश्वर मीणा ने स्वच्छता की निरन्तरता के परिपेक्ष्य में जिले में स्वच्छ भारत अभियान की प्रगति की जानकारी दी । कार्यशाला के दौरान वोटर जागरूकता अभियान के तहत वीवी पेट मशीन की कार्यप्रणाली की भी जानकारी दी गई। साथ ही पोषण मास के अन्तर्गत पोषणता की धारणा से अवगत कराया गया, वहीं समग्र शिक्षा अभियान के बारे में भी जानकारी दी गई । बैठक में उप जिला प्रमुख एडवोकेट उम्मेदसिंह, प्रधान अमरदीन फकीर समेत सरपंच तथा विभिन्न विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद थे ।

Published On:
Sep, 12 2018 10:29 AM IST