बीएसएफ के आइजी ने लिया सीमा चौकियों पर सुरक्षा प्रबंधों का जायजा

By: Deepak Vyas

Updated On:
12 Jun 2019, 10:58:08 AM IST

  • सीमा सुरक्षा बल महानिरीक्षक अनिल पालीवाल मंगलवार सुबह तनोट पहुंचे। इस अवसर पर उनके साथ केएस राजावत, उप महानिरीक्षक, पीएसओ महेंद्र प्रताप सिंह भाटी, उपमहानिरीक्षक (ऑप्स) और देवेंद्रसिंह भाटी, उपमहानिरीक्षक(संचार), सीमांत मुख्यालय सीमा सुरक्षा बल जोधपर भी मौजूद रहे।

जैेसलमेर. सीमा सुरक्षा बल महानिरीक्षक अनिल पालीवाल मंगलवार सुबह तनोट पहुंचे। इस अवसर पर उनके साथ केएस राजावत, उप महानिरीक्षक, पीएसओ महेंद्र प्रताप सिंह भाटी, उपमहानिरीक्षक (ऑप्स) और देवेंद्रसिंह भाटी, उपमहानिरीक्षक(संचार), सीमांत मुख्यालय सीमा सुरक्षा बल जोधपर भी मौजूद रहे। तनोट पहुंचने पर दलबीरसिंह अहलावत, समादेष्टा ने महानिरीक्षक व अन्य उच्च अधिकारियों का स्वागत किया। इसके बाद महानिरीक्षक ने जैसलमेर(उत्तर) से लगती भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा की सीमा चौकियों का दौरा कर सुरक्षा संबंधी इंतजामों का जायजा लिया व सीमा पर तैनात जांबाज सीमा प्रहरियों का लिए सैेनिक सम्मेलन भी आयोजित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि जैसलमेर जिले में तापमान करीब 50 डिग्री के आसपास चल रहा है और धूल भरी आंधियां भी है। फिर भी सीमा सुरक्षा बल के जवान बड़ी मुस्तैदी से सीमा पर अपनी पैनी निगाहें जमाए हुए है। तमाम विषम व कठोर परिस्थितियों में डटे रह कर अपने कर्तव्य का पालन करने के लिए महानिरीक्षक ने सीमा प्रहरियों की हौसला अफजाई की। उन्होंने सीमा सुरक्षा बल में बेहतर सुरक्षा व्यवस्था के लिए आधुनिक तकनीकी का सहारा लेने के बारे में भी अवगत कराया। उन्होंने जवानों के साथ जलपान किया व उनकी समस्याएं सुनी। आईजी पालीवाल ने जवानों को मुस्तैद रहने के साथ वर्तमान परिस्थितियों के मद्देनजर हर समय सजग व किसी भी गतिविधि से कड़ाई से निपटने के निर्देश दिए । इसके बाद महानिरीक्षक सीमा के नजदीक स्थित तनोट मंदिर पहुंचे और दर्शन कर मंदिर प्रांगण में पौधरोपण किया व बल के कार्मिकों को तपते रेगिस्तान को हरा भरा बनाने के लिए एक-एक पेड़ लगाने के लिए प्रेरित किया। इसके बाद क्षेत्रीय मुख्यालय जैसलमेर(दक्षिण) पहुंचे और वहां राजेश कमार उपमहानिरीक्षक क्षेत्रीय मुख्यालय जैसलमेर (दक्षिण) ने उनका स्वागत किया। इसके बाद महानिरीक्षक अधिकारियों, अधीनस्थ अधिकारियों व अन्य कार्मिंको से रु-ब-रु हुए और उनकी समस्याएं सुनी। उन्होंने सीमा सुरक्षा बल का नाम रोशन करने के लिए जवानों को प्रेरित किया। डाबला में नाडी खुदाई का कार्य का भी आइजी ने निरीक्षण किया और बरसाती जल संरक्षण के लिए रखरखाव संबंधी निर्देश दिए।

Updated On:
12 Jun 2019, 10:58:08 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।