घर में भी घिरी असुरक्षा से...महिलाएं

By: Tasneem Khan

Updated On:
11 Jul 2019, 03:47:06 PM IST

 
  • सड़कें और अनजान लोगों के बीच ही नहीं, महिला अपने घर-परिवार में भी असुरक्षित है।

तसनीम खान, जयपुर। सड़कें और अनजान लोगों के बीच ही नहीं, महिला अपने घर-परिवार में भी असुरक्षित है। यह असुरक्षा प्रताड़ना के रूप में यहां सामने आती है। और इस प्रताड़ना से सुरक्षा पर कहीं बात नहीं होती। न तो समाज और सरकार में इस सुरक्षा पर कभी ध्यान दिया गया और न ही घर-परिवार ही इस पर बात करते हैं। जबकि इसी सुरक्षा की कमी से वो भीतर तक इतनी खाली हो जाती हैं कि परिवार के विरोध की बजाय अपनी ही जिंदगी खत्म कर लेती हैं। परिवार की पैदा की गई इस असुरक्षा पर हम कहते हैं कि समर अभी शेष है..
यह तस्वीर है परिवार नामक उस संस्था की, जिसे बनाए रखने का पूरा दारोमदार एक महिला पर है। यह तस्वीर है उस परिवार नामक संस्था की जो सुरक्षित जीवन की गारंटी लेता है और इसी संस्था को बनाते-बनाते जब एक महिला थक जाती है, तो उसके पास जीने को जीवन नहीं बचता। बस इसीलिए एक विवाहिता जहर खाकर आत्महत्या कर लेती है, क्योंकि वो इस परिवार को बनाए रखने के भ्रम को नहीं ढो सकती। ऐसी खबर है श्रीगंगानगर से। जहां लालचंद की ढाणी में 9 जुलाई को दोपहर को एक विवाहिता ने जहरीला पदार्थ खाकर आत्महत्या कर ली। वजह वह अपने ससुर के तानों से परेशान थी, अपनी बहन जो देवरानी भी थी, उसके व्यवहार से परेशान थी। देवर जो उसका बहनोई भी था, उसके तंज से वो मानसिक प्रताड़ना से गुजर रही थी। इस वजह से 31 वर्षीय मंजू ने आत्महत्या कर ली। आत्महत्या करने से पहले उसने सुसाइड नोट भी छोड़ा, जिसमें उसने ससुर, देवर और अपनी ही बहन पर प्रताड़ना का आरोप लगाया है। राज्य सरकार ने बजट में महिला सशक्तिकरण और सुरक्षा के नाम पर एक हजार करोड़ रुपए का प्रावधान किया है। सुरक्षा के लिए पुलिस की संख्या, थानों की संख्या या महिला पुलिसकर्मियों की संख्या बढ़ाई जाएगी। स्कूलों में उन्हें आत्मसुरक्षा के गुर सिखाए जाएंगे। लेकिन यहां जरूरत उस सुरक्षा पर भी बात करने की है, जो भरे-पूरे परिवार के बीच भी असुरक्षा में बदल रही है।

Updated On:
11 Jul 2019, 03:47:06 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।