टैक्स वसूला लेकिन पेड़ों को भूले

By: vinay sharma

Updated On:
03 Aug 2019, 10:56:40 AM IST

  • राजस्थान में परिवहन विभाग पर्यावरण संबंधी नियमों की अनदेखी कर रहा है। विभाग ने 11 साल में वाहनों के प्रदूषण के बदले हरियाली बढ़ाने के नाम पर वाहन चालकों से करीब 1100 करोड़ रुपए का ग्रीन टैक्स वसूल लिया है। लेकिन, इन रुपयों का उपयोग कहीं भी पौधे लगाने के लिए नहीं किया।

राजस्थान में परिवहन विभाग पर्यावरण संबंधी नियमों की अनदेखी कर रहा है। विभाग ने 11 साल में वाहनों के प्रदूषण के बदले हरियाली बढ़ाने के नाम पर वाहन चालकों से करीब 1100 करोड़ रुपए का ग्रीन टैक्स वसूल लिया है। लेकिन, इन रुपयों का उपयोग कहीं भी पौधे लगाने के लिए नहीं किया। जिससे विभाग का ग्रीन टेक्स ढकोसला साबित हो रहा है। आपको बता दें कि वाहनों से फैलने वाले प्रदूषण से पर्यावरण के संरक्षण का हवाला देते हुए परिवहन विभाग वर्ष 2005 से ग्रीन टैक्स वसूल रहा है। मौजूदा दरों की बात करें तो दो पहिया वाहनों से 750 रुपए, पांच सीटर वाहनों से 1500 रुपए, पांच सीटर से ज्यादा क्षमता वाले वाहनों से 2000 रुपए ग्रीन टैक्स वाहन पंजीयन के समय लिया जाता है। लेकिन, इन रुपयों को जिस काम के लिए वसूला, वो काम कागजों में ही सिमट कर रह गया है। जिससे पर्यावरण को नुकसान के साथ परिवहन विभाग सवालों में घिर गया है। मामले में खास बात यह भी है कि विभाग यह टेक्स उन वाहन चालकों से भी वसूल रहा है जो पर्यावरण संरक्षण के लिए इलेक्ट्रोनिक वाहन खरीद रहे हैं।

Updated On:
03 Aug 2019, 10:56:40 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।