एनएसयूआई प्रदेशाध्यक्ष ने कहा: बागी चुनाव लडऩे वाले छह साल के लिए होंगे निष्कासित

Student Union Election: एनएसयूआई के प्रदेशाध्यक्ष अभिमन्यू पूनिया ( NSUI President Abhimanyu Punia ) का कहना है कि इस बार शीर्ष नेतृत्व बागियों के खिलाफ सख्त कदम उठाएगा। बागी होकर संगठन के खिलाफ चुनाव लडऩे वाले छात्रनेताओं को एनएसयूआई से छह साल के लिए निष्कासित ( Six Year Suspension ) किया जाएगा।यह बात उन्होंने रविवार को संगठन का चुनावी घोषणा पत्र जारी करते हुए कही। हालांकि इस दौरान पिछले चुनाव के बागियों के संगठन में होने से जुड़े सवाल पर उन्होंने कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया। आपको बता दें कि पिछले चुनावों में एनएसयूआई की टिकट पर चुनाव लड़े रणवीर सिंघानिया के सामने बागी विनोद जाखड़ चुनावी मैदान में उतरे थे और रिकॉर्ड मतों से जीत भी हासिल की। लेकिन जीत दर्ज करने के बाद संगठन ने उन्हें फिर से शामिल कर लिया। वहीं, बागी चुनाव लडऩे वाले महेश सामोता को इस बार संगठन ने चुनाव समिति में सदस्य बनाया है।

इधर, राजस्थान यूनिवर्सिटी छात्रसंघ चुनाव के लिए संगठन की ओर से जारी घोषणा पत्र में 13 मुद्दों को शामिल किया गया है। जिसमें लाइब्रेरी, कैंपस में एंबुलेंस, 24 घंटे डिस्पेंसरी सुविधा देने की बात कही गई है। साथ ही विश्वविद्यालय को कम्प्यूटरीकृत कराने का भी वादा छात्रों से किया है। वहीं, जेएलएन मार्ग को परिवहन की सुविधा से जोडऩा, आरयू मेन गेट पर ओवरब्रिज बनाने सहित १३ वादों को चुनावी घोषणा पत्र में शामिल किया गया है। एनएसयूआई के राष्ट्रीय प्रवक्ता जसविंदर चौधरी ने बताया कि यदि एनएसयूआई संगठन जीत हासिल करता है तो इन सभी वादों को पूरा किया जाएगा। इसके साथ ही बागियों पर 28 अगस्त के बाद कार्रवाई की जाएगी।

इधर, बागी मुकेश चौधरी ने जारी किया वचन पत्र
एक ओर जहां एनएसयूआई ने घोषणा पत्र जारी करते हुए कहा है कि बागियों को छह साल के लिए निष्कासित किया जाएगा। वहीं, दूसरी ओर संगठन से बागी होकर अध्यक्ष का निर्दलीय चुनाव लड़ रहे मुकेश चौधरी ने अपना वचन पत्र जारी किया है। मुकेश का कहना है कि संगठन घोषणा पत्र जारी करते है, लेकिन वह विद्यार्थियों को वचन पत्र सौंप रहे है। अपने 11 सूत्रीय वचन पत्र में चौधरी ने यूनिवर्सिटी के विकास से जुड़े मुद्दों को शामिल किया है।

 

Web Title "Student Union Election: NSUI, 6 Year suspension, RU Election"

Rajasthan Patrika Live TV

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।