सड़क पर दुर्घटना का सबब बनते आवारा मवेशी

By: Rakhi Hajela

Updated On:
25 Aug 2019, 08:32:27 PM IST

  • सड़क पर दुर्घटना का सबब बनते आवारा मवेशी
    वाहनों की टक्कर से हो रही मौत
    हाईवे पर बढ़ता यातायात बना वजह
    वाहन चालक भी हो रहे दुर्घटना के शिकार

झालावाड़ ( jhalawar ) जिले के बकानी में अज्ञात वाहन की टक्कर से 3 गायों की मौत हो गई। हादसे को लेकर ग्रामीणों में भारी आक्रोश देखने को मिला। सड़क से मृत मवेशियों को नहीं हटाने से नाराज ग्रामीणों ने पौन घंटे तक झालावाड़ रोड जाम कर दिया। तहसीलदार की समझाइश के बाद लोगों ने जाम हटा दिया। सड़क दुर्घटना में गोवंश या अन्य मवेशियों की मौत के आंकड़े लगातार बढ़ते जा रहे हैं। न केवल झालावाड़ बल्कि राज्य के अन्य क्षेत्रों में अज्ञात वाहन की टक्कर से मवेशियों की मौत का सिलसिला लगातार जारी है। हाइवे पर बढ़ते यातायात के दबाब के कारण केवल मवेशियों की ही मौत नहीं हो रही बल्कि वाहन चालक और सवारियां भी दुर्घटना के शिकार हो रही हैं। एक रिपोर्ट.

हाईवे पर यातायात का दबाव
अगर पिछले एक माह की बात करें तो अब तक राज्य के विभिन्न इलाकों में सड़क हादसों में दर्जनों की संख्या में पशुओं की मौत हो चुकी है। खासतौर पर गाय बड़ी संख्या में दुर्घटना की शिकार हो रही हैं और अधिकांश को इलाज नहीं मिल पाता एेसे में वह दम तोड़ देती हैं। रात में वाहन तेज रफ्तार से चलने की वजह से ऐसी स्थिति बनती है। अगर बात हाईवे की करें तो नेशनल हाईवे पर यातायात का भारी दबाव रहता है। सुबह से लेकर रात तक हजारों वाहन निकलते हैं। बीच रास्ते में बैठे रहने के कारण कई बार वाहन चाल मवेशियों को बचाने के चक्कर में वाहन को टकरा देते हैं या फिर पलटी खा जाते हैं। कई वाहन चालक तो मवेशियों को ही टक्कर मार कर चले जाते हैं।

शहर हो या फिर ग्रामीण इलाके देखने में आया है कि व्यस्ततम मार्गों पर दिन रात में बीच रास्तों पर मवेशी बैठने के कारण परेशानी बनी रहती है। जिला प्रशासन और नगर पालिकाओं की ओर से आवारा मवेशियों को पकडऩे के लिए अभियान चलाया जाता है लेकिन वह भी कुछ दिन बाद बंद हो जाता है। वहीं लाखों रुपए गौशालाओं में सरकार की ओर से या फिर अन्य भामाशाहों की ओर से गौशालाएं तो बनवाई जाती हैं लेकिन उसमें गायों की सही परवरिश नहीं हो पाती। आवारा गाय और सांड सड़कों पर घूमते रहते हैं और लोगों को तो चोटग्रस्त करते हैं ही साथ ही खुद भी दुर्घटना के शिकार हो जाते हैं।

 

Updated On:
25 Aug 2019, 08:32:27 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।