प्रदेश के कई जिलों में मानसून मेहरबान, दो साल बाद फिर से सरजणा बांध छलका

By: Anant Kumar Das

Updated On: 10 Sep 2019, 10:32:00 PM IST

  • राजस्थान के कई हिस्सों में मानसून अभी भी मेहरबान है। मानसून की इस मेहरबानी से जहां लोगों के चेहरे खिल उठते हैं तो वहीं कहीं-कहीं जीवन अस्त व्यस्त हो गया है।
    बांसवाड़ा में मानसून एक बार फिर सक्रिय हो गया। पिछले दिनों गर्मी और उमस के बाद कई इलाकों में अच्छी बारिश हुई।

राजस्थान के कई हिस्सों में मानसून अभी भी मेहरबान है। मानसून की इस मेहरबानी से जहां लोगों के चेहरे खिल उठते हैं तो वहीं कहीं-कहीं जीवन अस्त व्यस्त हो गया है।
बांसवाड़ा में मानसून एक बार फिर सक्रिय हो गया। पिछले दिनों गर्मी और उमस के बाद कई इलाकों में अच्छी बारिश हुई। काले घने बादलों की गर्जना और बारिश का दौर दोपहर तक बना रहा। बारिश की वजह से पानी सड़कों पर बह निकला। ऐसे में लोगों को थोड़ी परेशानी जरूर हुई तो कई लोगों ने पिकनिक स्पॉट का रूख किया। संभाग के सबसे बड़े माही बांध में अच्छी बारिश के चलते जिले सहित मध्यप्रदेश की ओर से भी पानी की आवक तेज हो गई। इसी को देखते हुए एक फिर माही बांध के 16 गेट खोल दिए गए। सोमवार को जहां माही बांध के 4 गेट खोले हुए थे वहीं मंगलवार को माही बांध का जलस्तर बनाए रखते हुए 16 गेट खोले गए।


बात की जाए मेवाड़ की तो यहां मानसून मेहरबान होने से वल्लभनगर का सरजणा बांध दो साल बाद फिर से छलका है। इससे पहले दो सालों में कम बरसात होने से पानी की आवक नहीं हुई थी। ज्यों ही बांध भरने की खबर लोगों तक पहुंची पाल पर सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण इस नजारे को देखने के लिए पहुंच गए। उदयसागर के गेट खोलने पर सरजणा बांध में पानी की लगातार आवक होने से यह बांध छलक गया। सरजणा बांध की कुल भराव क्षमता 20 फिट के करीब है लेकिन बांध के साढ़े उन्नीस फिट होते ही इसकी रपट से चादर चलने लग जाती है और लम्बी रपट होने से पानी जलप्रपात के रूप में बहता हुआ बड़गांव बांध में जाता है।

आपको बतादें कि इस बांध से नहरों द्वारा आस पास के करीब 22 गांवो में सिंचाई के लिए पानी छोड़ा जाता है। इससे किसानों के चहरे खुशी से खिलखिला गए। बांध के छलकने के बाद ड्रोन कैमरे से सरजणा बांध के नजारे को शूट किया गया। इस बीच सिंचाई विभाग की ओर से ग्रामीणों को पुलिया पर बहते पानी और डूब क्षेत्र में नहीं जाने की चेतावनी भी जारी की गई है।

Updated On:
10 Sep 2019, 10:31:59 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।