RSMSSB रिजल्ट या मजाक : सवालों के घेरे में LDC-2018 भर्ती परीक्षा परिणाम

By Pawan kumar

|

15 Feb 2020, 12:24 PM IST

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

जयपुर। राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड (Rajasthan Subordinate and Ministerial Services Selection Board Jaipur) की परीक्षाएं मजाक बन गई हैं। लाइब्रेरियन ग्रेड—2 की परीक्षा का पेपर आउट होने के कारण निरस्त करना पड़ा था। लगता है इसके बावजूद राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड ने कोई सबक नहीं सीखा है। कल घोषित किए गए कनिष्ठ सहायक लिपिक ग्रेड द्वितीय सीधी भर्ती परीक्षा—2018 परिणाम में भी गड़बड़ियां सामने आने लगी है।

ये है मामला
जानकारी के अनुसार ओबीसी महिला वर्ग की अभ्यार्थी सरिता (रोल नम्बर 2248756) ने कनिष्ठ सहायक लिपिक ग्रेड द्वितीय सीधी भर्ती परीक्षा—2018 के प्रथम चरण में परीक्षा दी थी। सरिता को कुल 229.9668 अंक प्राप्त हुए हैं। जबकि ओबीसी महिला वर्ग की कटआॅफ (Cut Off) 202.5891 अंक गई है। सामान्य वर्ग की महिला श्रेणी कटआॅफ 209.1531 गई है। सामान्य वर्ग पुरूष की कटआॅफ भी 220.9126 गई है। महिला अभ्यार्थी सरिता ने सभी श्रेणियों की कटआॅफ में सबसे ज्यादा अंक मिले हैं। इसके बावजूद 14 फरवरी 2020 को जारी परिणाम में उसका नाम शामिल नहीं है। जबकि अभ्यार्थी सरिता को दस्तावेज सत्यापन और पात्रता जांच संबंधी तमाम प्रकियाओं में सही पाया गया था। राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड ने पात्रता जांच, दस्तावेज सत्यापन, जीवमितीय प्रमाणन और सत्यापन 24 दिसम्बर 2019 से 8 फरवरी 2020 तक एवं 13 फरवरी 2020 को करवाया था।

पहले भी 2 बार जारी हुआ संशोधित परिणाम
कनिष्ठ सहायक लिपिक ग्रेड द्वितीय सीधी भर्ती परीक्षा—2018 परीक्षा दो चरणों में हुई थी। प्रथम चरण का परिणाम 7 मार्च 2019 को जारी किया गया। इसके बाद संशोधित परिणाम 19 मार्च 2019 को जारी हुआ। दूसरी बार संशोधित परिणाम 10 मई 2019 को जारी किया गया। जबकि द्वितीय चरण का परिणाम 25 अक्टूबर 2019 को घोषित किया गया। महिला अभ्यार्थी सरिता ने प्रथम चरण में पेपर दिया था। राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड ने प्रथम चरण के परिणाम 3 बार में घोषित किया। उस दौरान भी कई गड़बड़ियां सामने आई थी। अब अंतिम रिजल्ट में भी गड़बड़ियां सामने आने लगी है।


पल्ला झाड़ रहे जिम्मेदार -


मैं अभी बाहर हूं। सोमवार को इस गड़बड़ी के बारे में पता करवाएंगे।

बीएल जाटावत, अध्यक्ष, राजस्थान कर्मचारी चयन आयोग

राजस्थान कर्मचारी चयन आयोग में यदि कोई गड़बड़ी हुई है, तो इसमें मैं कुछ नहीं कर सकता। हमें जिन अभ्यार्थियों की लिस्ट मिलेगी उन्हें नियुक्ति दे दी जाएगी। डीओपी विभाग मुख्यमंत्री के अधीन आता है, वही कुछ कर पाएंगे।

गोविंद डोटासरा, शिक्षा राज्यमंत्री, राजस्थान

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।