राजस्थान में यहां बने बाढ़ के हालात, एक ही दिन में 304 एमएम बरसात, नदी-नालों में आया उफान

By: pushpendra shekhawat

|

Published: 31 Jul 2021, 08:20 PM IST

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

जया गुप्ता / जयपुर। पूर्वी राजस्थान में शनिवार को भी मानसून पूरी तरह से मेहरबान रहा। बारां, टोंक, जयपुर, सवाईमाधोपुर, अलवर, करौली, सीकर, झुंझुनूं, कोटा, भरतपुर, दौसा, नागौर, चुरू में कुछ स्थानों भारी व अति भारी बारिश दर्ज की गई। ज्यादातर जिलों में शुक्रवार रात शुरू हुई बारिश शनिवार दोपहर बाद रूकी। पिछले 24 घंटे में सर्वाधिक बारिश बारां के शाहबाद में 304 मिमी हुई। भारी बारिश के कारण नदी-नाले उफान पर आ गए। मौसम विभाग ने अगले 4-5 दिन मानसून के इसी तरह सक्रिय रहने और भारी बारिश होने की संभावना जताई है।

दो कम दबाव के क्षेत्र सक्रिय, खूब होगी बारिश
मौसम विभाग के अनुसार फिलहाल कम दबाव के क्षेत्र के दो सिस्टम सक्रिय हैं। एक उत्तरप्रदेश व हरियाणा पर और दूसरा झारखंड पर। राजस्थान में उत्तरप्रदेश पर सक्रिय सिस्टम के कारण बारिश हो रही है। अगले एक-दो दिन में दूसरे सिस्टम का भी असर दिखने लगेगा। इन दोनों के असर से अगले 4-5 दिन खूब बारिश होगी। 4 अगस्त तक पूर्वी राजस्थान में सभी स्थानों पर बारिश होगी। जबकि पश्चिमी राजस्थान में अधिकांश स्थानों पर बारिश होने की संभावना है। इस दौरान कुछ स्थानों भारी व अति भारी (200 मिमी) से अधिक बारिश हो सकती है।

नदियों में उफान से बने बाढ़ के हालात
बारां - देवरी की पलको नदी में उफान से बाढ़ के हालात बन गए हैं। नदी किनारे पुरानी पुलिस चौकी के पास सड़क पर रखी एक कार करीब आठ 10 फीट दूर तक बह गई। बमोरीकलां में कच्चे मकान की दीवार गिरने से भैंस की मौत हो गई। पार्वती नदी की पुलिया पर चादर चलने से अंतरराज्यीय बराना मार्ग का 5 दिन से यातायात बंद है। वहीं अटरू व किशनगंज उपखंड के करीब 2 दर्जन गांवों का संपर्क भी कटा हुआ है।


कोटा - जिले के खातौली में भारी बारिश हुई। रजोपा, बांगरोद, श्रीपुरा, रामपुरिया धाबाई गांव व खातौली के वार्ड तीन में 600 घरों की बस्ती इन्द्रा कॉलोनी में पानी घुस गया। चम्बल नदी में भी पानी की आवक बनी हुई है। इससे खातौली-सवाईमाधोपुर मार्ग बीते एक सप्ताह से बंद पड़ा है।

सवाईमाधोपुर - बीते 24 घंटे में देवपुरा में सर्वाधिक 190 एमएम बारिश दर्ज की गई। चौथ का बरवाड़ा उपखंड के पावाडेरा में एक युवक पावाडेरा गांव का लेखराज (25) पुत्र भंवरलाल कुमावत गलवा नदी में बह गया। उसका पता नहीं चला। खण्डार के इटावदा गांव में तेज बारिश के चलते एक कच्चा मकान ढह गया। इसके नीचे एक ही परिवार के चार लोग दब गए।

बूंदी : इंद्रगढ़ क्षेत्र में शिवदान सागर तालाब, इंद्रायणी नदी, इंद्रायणी बांध आदि में पानी की आवक हो गई। इंद्रगढ़ कस्बे में बड़े जैन मंदिर के पास पक्का मकान ढह गया।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।