भाजपा सरकार की इस योजना पर संकट के बादल

जयपुर। पिछली भाजपा सरकार के कार्यकाल में शुरू हुई अन्नपूर्णा दूध योजना पर अब संकट के बादल मंडराने लगे है। राजधानी जयपुर के कई ग्रामीण इलाकों में मिड डे मील योजना के आयुक्त की ओर से निर्धारित दरों पर दूध सप्लाई नहीं किया जा रहा है। इस संबंध में जयपुर जिला कलक्टर ने डेयरी प्रबंधन को पत्र लिखकर जिले की सभी सहकारी समितियों को पूर्व निर्धारित दरों के अनुसार ही सरकारी स्कूलों में दूध उपलब्ध कराने के लिए पाबंद करने की बात कही गई है।

गौरतलब है कि पिछले वर्ष भाजपा सरकार के शासन में सरकारी स्कूलों के कक्षा एक से आठ तक के बच्चों को सुबह प्रार्थना सभा के बाद दूध पिलाने की योजना थी। इस योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्र में दूध की दर 35 रुपए और शहरी क्षेत्र में 40 रुपए प्रति लीटर निर्धारित की गई थी। लेकिन पिछले दिनों जयपुर डेयरी की ओर से दरें बढऩे के कारण अब ग्रामीण क्षेत्रों में सहकारी दुग्ध समितियां दूध सप्लाई करने में असमर्थता जता रही है। एेसे में जिले की दूदू, चाकसू, आमेर, फागी एवं सांभर इलाके की स्कूलों में दूध वितरण व्यवस्था प्रभावित हो रही है।

 

150 और 200 एमएल पिलाना था दूध

अन्नपूर्णा दूध योजना 1 सितंबर, 2018 से शुरू हुई थी। जिसमें कक्षा 1 से 5 तक के बच्चों को 150 मिलीग्राम दूध और कक्षा 6 से 8 तक के बच्चों को 200 मिलीग्राम दूध प्रतिदिन पिलाना तय किया गया था। दूध को प्रार्थना के तत्काल बाद सभी बच्चों को स्टील गिलास में पिलाने के आदेश दिए गए थे।

 

इनका कहना है:

अन्नपूर्णा दूध योजना के तहत बच्चों को दूध वितरित किया जाता है। लेकिन जब से जयपुर डेयरी ने दूध की दरों में बढ़ोतरी की है, तब से कई क्षेत्रों की सहकारी समितियों ने दूध ३५ रुपए प्रति लीटर देने में असमर्थता जताई है। इसलिए हमने डेयरी को पत्र लिखकर समस्या से अवगत कराया है और बताया है कि योजना प्रभावित हो रही है। साथ ही इन सहकारी समितियों को पूर्व निर्धारित दरों पर दूध उपलब्ध कराने के निर्देश दिए है।

जगरूप सिंह यादव, जिला कलक्टर

Web Title "Rajasthan Govt. Scheme Annpurna Dudh Yojna: Milk For Students, BJP"

Rajasthan Patrika Live TV

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।