पुलिस ही नहीं कर रही पुलिस की मदद, तीन माह तक दर्ज नहीं की रिपोर्ट

By: Mridula Sharma

Updated On:
09 Apr 2019, 03:39:11 PM IST

  • कोतवाली थाने का मामला

जयपुर. पुलिस ही पुलिस की मदद नहीं कर रही है, तो आमजन की सहायता की बात तो बेमानी है। रिजर्व पुलिस लाइन में तैनात कांस्टेबल गोपाल लाल ठगी की वारदात के बाद रिपोर्ट दर्ज करवाने के लिए थाने के चक्कर लगाता रहा, लेकिन तीन माह बाद अब पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज की। मामला कोतवाली थाना इलाके का है।

पीडि़त ने बताया कि 26 दिसंबर को वह मोबाइल ठीक करवाने रायसर प्लाजा जा रहा था। इंदिरा बाजार में एटीएम बूथ पर दो हजार रुपए निकालने रुका। वहां पहले से एक मशीन पर युवक रुपए निकाल रहा था। उसने कहा कि आप इस मशीन से रुपए निकाल लीजिए दूसरी मशीन खराब है। फिर मैं रुपए निकालकर दुकान पर आ गया। वहां आते ही चालीस हजार रुपए निकलने का मैसेज आया तो चौंक गया। उसी दिन थाने में शिकायत दर्ज की तो पुलिस ने परिवाद में रख लिया।

गोपाल ने बताया कि जिसके जांच सौंपी उसका प्रमोशन हो गया तो वह टे्रनिंग करने चला गया। इसके बाद किसी दूसरे को जांच सौंपी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। बैंक गया तो उन्होंने एफआइआर की कॉपी मांगी। बैंक में एफआइआर की कॉपी जमा करवाने के लिए थाने के चक्कर लगाता रहा। अब छह अप्रेल को एफआइआर दर्ज हुई।

युवती से ओटीपी पूछ निकाले 20 हजार
इधर नौकरी नहीं दिलवा पाने पर चार हजार रुपए रिफंड करने के नाम पर ठगों ने युवती से ओटीपी पूछ बीस हजार रुपए निकाल लिए। पहले तो युवती ने सजगता दिखाते हुए ओटीपी बताने से मना कर दिया, बाद में मात्र दस रुपए रजिस्टे्रशन के कटने के झांसे में आ गई। इंदिरा गांधी नगर निवासी युवती ने खो-नागोरियान थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई है। युवती ने दिसंबर में शाइन डॉट कॉम से नौकरी दिलवाने का कॉल आने पर चार हजार जमा कराए थे। प्रतिनिधि ने कहा था कि यदि आपकी एक-दो माह में जॉब नहीं लगे तो यह रुपया रिफंड हो जाएगा।

Updated On:
09 Apr 2019, 03:39:11 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।