chandrayaan-2-पाकिस्तानी महिला एस्ट्रोनॉट ने इसरो को सराहा

By: Tasneem Khan

Updated On:
10 Sep 2019, 07:17:53 PM IST

  • पाकिस्तानी महिला एस्ट्रोनॉट ने इसरो को सराहा

जयपुर। पाकिस्तान की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री नमिरा सलीम ने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र इसरो को चंद्रयान 2 को चांद तक पहुंचाने पर बधाई दी है। जहां लगातार कश्मीर को लेकर पाकिस्तान से तल्ख टिप्पणियां आ रही हैं, वहीं पाकिस्तान के कई वैज्ञानिकों और स्टूडेंट्स के बाद अब नमिरा सलीम ने इस बात पर खुशी जताई है कि इसरो ने चंद्रयान 2 के रूप में दक्षिण एशिया को अंतरिक्ष अनुसंधान में गर्व से सिर उंचा करने की वजह दी है। उन्होंने इस मिशन की बधाई देते हुए कहा कि जमीन पर हम अलग—अलग देशों में भले ही बंटे हों, लेकिन जब भी कोई देश अंतरिक्ष में आगे बढ़ता है, तो सभी राजनीतिक और जमीनी सीमाएं खत्म हो जाती हैं। अंतरिक्ष हमें एकजुट करता है और पृथ्वी विभाजित करती है।

दरअसल इस मामले पर कराची की एक पत्रिका 'साइंशिया' ने उनका इंटरव्यू लिया। उसमें नमिरा ने कहा कि मैं भारत और इसरो को चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर विक्रम लैंडर की एक सफल सॉफ्ट लैंडिंग कराने के उसे ऐतिहासिक प्रयास के लिए बधाई देती हूं। चंद्रयान-2 मिशन भारत ही नहीं, दक्षिण एशिया के लिए भी एक बड़ी छलांग है जो पूरे विश्व के अंतरिक्ष उद्योग को गौर्वांवित करता है। आपको बता दें कि नमिरा अंतरिक्ष में जाने वाली पहली पाकिस्तानी महिला हैं। वे सर रिचर्ड ब्रैनसन के वर्जिन गैलेक्टिक से अंतरिक्ष में गई थीं। तभी से वे विश्वभर के एस्र्टोनॉट में अलग पहचान रखती हैं। उन्होंने पाकिस्तानी मीडिया और पाकिस्तानी राजनेताओं से अलग भारत की तारीफ की है। उन्होंने चंद्रयान 2 पर भारत के प्रयास को ऐतिहासिक बताया है।

Updated On:
10 Sep 2019, 07:17:53 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।