बुरे दिन की चपेट में नेता

By: Sharad Sharma

Updated On:
10 Sep 2019, 02:13:01 PM IST

  • पुराने मामले फिर से आने लगे बाहर
    कमल, कल्याण और रावत की बढ़ी मुश्किले

जयपुर। पुराने मामलों की फाइले खुलने के साथ ही अब कई प्रमुख नेताओं के बुरे दिन शुरू हो गए हैं। कांग्रेस में पी चिदंबरम और कर्नाटक के कद्दावर नेता डीके शिवकुमार की गिरफ्तारी के बाद अब उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत पर भी गिरफ्तारी का संकट मंडरा रहा है। वहीं भाजपा के प्रमुख नेता और राजस्थान पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह भी बाबरी मामले में मुसीबत में दिखाई दे रहे हैं।

सिख दंगों की आंच में कमलनाथ
मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं। वर्ष 1984 के सिख दंगों की जांच के लिए गृह मंत्रालय की ओर से 2015 में गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) ने दंगे से जुड़ी फाइलें फिर से खोलने का नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। एसआईटी ने पब्लिक नोटिस जारी कर व्यक्तियों और संगठनों से कहा है कि यदि उनके पास दंगों से जुड़ी कोई जानकारी है तो वे एसआईटी पुलिस स्टेशन के प्रभारी अधिकारी से संपर्क कर सकते हैं। एसआईटी की पब्लिक नोटिस के बाद शिरोमणी अकाली दल के नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने कमलनाथ के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

कल्याण पर आया बाबरी संकट
राजस्थान के राज्यपाल के पद से हटते और बीजेपी की सदस्यता ग्रहण करते ही उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह की मुसीबत बढ़ने लगी है। बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में कल्याण सिंह को बतौर आरोपी फिर से कोर्ट में पेश करने के लिए सीबीआई ने अदालत में अर्जी दाखिल की है। सीबीआई की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने 19 अप्रैल 2017 को आदेश दिया था, जिसमें कल्याण सिंह के अलावा इस केस में पूर्व डिप्टी पीएम लाल कृष्ण आडवाणी, बीजेपी के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी, पूर्व मंत्री उमा भारती, साध्वी ऋतंभरा, महंत नृत्यगोपाल दास, विनय कटियार सहित अन्य को आरोपी मानते हुए मुकदमा चलाने की बात कही थी। कल्याण सिंह को छोड़कर बाकी आरोपियों को कोर्ट से जमानत मिली हुई है।

विधायक खरीद—फरोख्त में फंसे रावत
उत्तराखंड के बहुचर्चित विधायकों की खरीद-फरोख्त के स्टिंग मामले में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को कभी भी सीबीआई गिरफ्तार कर सकती है। सीबीआई की ओर से नैनीताल हाई कोर्ट में मॉडिफिकेशन एप्लीकेशन दायर की गई जिसमें कहा गया कि इस मामले में सीबीआई की प्रारंभिक जांच पूरी हो चुकी है और अब हरीश रावत को गिरफ्तारी करना चाहती है। हाई कोर्ट की ओर से सीबीआई की एप्लीकेशन स्वीकार कर ली गई है, इसके बाद रावत पर गिरफ्तारी की गाज कभी भी गिर सकती है।

Updated On:
10 Sep 2019, 02:13:01 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।