एक साल के लिए करते परिजनों से एग्रीमेंट, फिर ले जाते बच्चे, शुरू हो जाता गंदा धंधा

By: pushpendra shekhawat

|

Updated: 24 Aug 2019, 10:21 PM IST

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

अविनाश बाकोलिया / जयपुर। बच्चों को परिजनों से दो लाख रुपए खरीदकर उनसे शादी समारोह में बैग चोरी करने वाले मध्यप्रदेश के कडिया गैंग के तीन बदमाशों को करधनी थाना पुलिस ने प्रोडक्शन वारंट पर गिरफ्तार किया। थाना प्रभारी इस्लाम खान ने बताया कि कडिया गिरोह के सोनू (28), कबीर (19) और ऋषिकेश (23) कडिया गांव बौडा मध्यप्रदेश के रहने वाले हैं। तीनों आरोपितों को कोटा पुलिस ने विवाह-स्थलों से नकदी-गहने से भरे बैग की चोरी के मामले में गिरफ्तार किया था।

 

जिनसे पूछताछ में कोटा शहर में पांच वारदातों को खुलासा हुआ। आरोपियों ने माह नवंबर में सुल्तान मैरिज गार्डन से हुई 18 लाख रुपयों से भरे बैग के चोरी किया था। आरोपी जयपुर व राजस्थान में अलग-अलग जिलों से विवाह स्थलों से शादी समारोह में सोने-चांदी व नकदी से भरे बैग चोरी करते थे। गिरोह का मुख्य सरगना कबीर है।

 

बच्चों के परिजनों के साथ एक साल का एग्रीमेंट
पुलिस ने बताया कि मध्यप्रदेश के कडिय़ा से तीनों आरोपी 10-12 साल के बच्चों को दो लाख रुपए प्रतिवर्ष के हिसाब से खरीद लेते हैं। बच्चों के परिजनों से एक साल का एग्रीमेंट कर लिखवाया जाता है कि यदि बच्चे या उसके परिजनों ने चोरी के माल के साथ हेराफेरी की तो उसे दंड दिया जाएगा। एग्रीमेंट के होने के बाद बच्चों को जयपुर में अलग-अलग शादी समारोह में सूट-बूट पहनाकर भेज दिया जाता है। जैसे ही बच्चे किसी बैग चोरी कर लेते हैं तो उस बच्चे को बैग के साथ तुंरत चार पहिया गाड़ी से कडिय़ा भेज दिया जाता है।

 

पंचायत में पेंडिंग है फैसला

बदमाशों ने कबूल किया है कि सुल्तान मैरिज गार्डन से हुई 18 लाख रुपयों से भरे बैग चोरी के मामले बच्चे और उसके परिजनों ने रकम कम बताने की बेईमानी की थी। इस संबंध में हलखेड़ी और कड़ियों के वरिष्ठजनों की पंचायत चल रही है कि यदि बच्चे और परिजन ने बेईमानी की है तो उनके खिलाफ क्या कार्रवाई की जाए।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।