सूखे ट्यूबवेलों पर हल्ला बोल

By: afjal khan

Published On:
Nov, 06 2015 04:16 AM IST

  •  गिरते जलस्तर के कारण सूख रहे ट्यूबवेल प्रशासन के लिए बड़ी मुसीबत बन गए हैं। धोद पंचायत समिति मुख्यालय में गुरुवार को हुई जनसुनवाई के दौरान ग्रामीणों ने इस मामले पर जमकर हंगामा किया। 
 गिरते जलस्तर के कारण सूख रहे ट्यूबवेल प्रशासन के लिए बड़ी मुसीबत बन गए हैं। धोद पंचायत समिति मुख्यालय में गुरुवार को हुई जनसुनवाई के दौरान ग्रामीणों ने इस मामले पर जमकर हंगामा किया। 

बुधवार को एक खातेदार के खिलाफ दर्ज कराए मामले को लेकर भी लोगों ने नाराजगी जताई। मूण्डवाड़ा सरपंच महावीर सिंह ने कहा कि गांवों में पीने के लिए पानी नहीं है। एेसे में यदि कोई व्यक्ति अपने ट्यूबवेल की गहराई बढ़ाने की मांग करता है तो कोई गुनाह नहीं है। 

उन्होंने कहा कि पिछले दिनों हुई कार्रवाई पूरी तरह गलत है, क्योंकि किसान अपने ट्यूबवेल से सिर्फ पाइप निकलवा रहा था। इस पर एसडीएम भावना गर्ग ने इस मामले में जिला कलक्टर से बातचीत कर समाधान का आश्वासन दिया। 

इस दौरान विधायक गोरधन वर्मा व उप जिला प्रमुख शोभसिंह अनोखूं ने भी अधिकारियों को जल्द समस्याओं का समाधान कराने के निर्देश दिए।

 सूखे ट्यूबवेल की गहराई बढ़ाने के मामले को लेकर जिला कलक्टर से बातचीत की जाएगी। चिकित्सक को रात को मुख्यालय पर ही रुकने के लिए पाबंद किया गया है।
भावना गर्ग, एसडीएम, धोद

रात को नहीं रुकती चिकित्सक
धोद सीएचसी में महिला चिकित्सक के नदारद रहने की भी लोगों ने शिकायत की। इस पर एसडीएम ने चिकित्सक को रात को मुख्यालय पर ही रुकने के लिए पाबंद किया। 

वहीं ग्रामीणों ने मंडावरा के ग्रामसेवक के मुख्यालय पर नहीं आने की शिकायत की। एसडीएम ने ग्रामसेवक को कार्यालय के सामने पहुंचकर प्रतिदिन फोटो भेजने के निर्देश दिए हैं।

Published On:
Nov, 06 2015 04:16 AM IST

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।