सोडाला एलिवेटेड रोड: फीता काटने के सरकार के मंसूबों पर किसने फेरा पानी, खबर में पढ़ें

By: Savita Vyas

Published On:
Sep, 12 2018 12:56 PM IST

  • जयपुर विकास प्राधिकरण की लेटलतीफी के चलते मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के नेतृत्व वाली सरकार जयपुर के महत्वाकांक्षी सोडाला एलिवेटेड प्रोजेक्ट का फीता नहीं काट पाएगी।

 

जयपुर। जयपुर विकास प्राधिकरण की लेटलतीफी के चलते मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के नेतृत्व वाली सरकार जयपुर के महत्वाकांक्षी सोडाला एलिवेटेड प्रोजेक्ट का फीता नहीं काट पाएगी। राज्य सरकार ने दिसंबर-2016 में जब एलिवेटेड रोड का निर्माण कार्य शुरू हुआ था। उस समय अक्टूबर-2018 की डैडलाइन तय की थी, लेकिन 250 करोड़ की लागत वाले इस प्रोजेक्ट का अब तक सिर्फ 40 फीसदी काम ही पूरा हो पाया है। जेडीए के काम की रफ्तार को देखकर लगता है कि अक्टूबर 2018 की डैडलाइन तक तो एलिवेटेड रोड के पिलर ही नहीं बन पाएंगे।

पाइल्ड डालने में लगे दो साल
जानकारी के अनुसार जेडीए ने एलिवेटेड रोड परियोजना का काम दिसंबर-2016 में शुरू किया था। जेडीए को एलिवेटेड रोड के 619 पाइल्स डालने में ही करीब दो साल का समय लग गया। एलिवेटेड रोड के लिए 111 पिलर बनने हैं। इनमें से अब तक 60 पिलर ही बन पाए हैं। एलिवेटेड रोड का अब तक करीबन 45 प्रतिशत काम ही पूरा हुआ है। इसे देखते हुए लगता है कि मौजूदा सरकार का एलिवेटेड रोड का उदघाटन करने का सपना पूरा नहीं हो पाएगा। वहीं बजट की बात करें तो जेडीए ढाई सौ करोड़ में से 80 करोड़ रुपए का काम ही पूरा कर पाया है। प्रोजेक्ट में 105 फाउंडेशन बनने हैं। इनमें से 80 फाउंडेशन का निर्माण हुआ है। पहले तेज गर्मी के कारण सीमेंट-कंक्रीट से कार्य बाधित रहा। बाद में बरसात के कारण काम धीमा हो गया। इन दिनों प्रोजेक्ट का काम बेहद धीमी गति से चल रहा है। जेडीए अफसरों का कहना है कि बरसात के कारण काम की रफ्तार को गति नहीं मिल पा रही है।

गौरतलब है कि अम्बेडकर सर्किल से सोडाला तक एलिवेटेड रोड की लंबाई 2.8 किमी रहेगी और सोडाला से एलिवेटेड रोड की तरफ 1.8 किमी रहेगी। एलिवेटेड रोड का निर्माण पूरा होने पर लोगों को जाम से राहत मिलेगी। फिलहाल लोगों को जाम की समस्या से जूझना पड़ रहा है। ऐसे में लोगों को भी एलिवेटेड रोड का काम पूरा होने का इंतजार है।

 

Published On:
Sep, 12 2018 12:56 PM IST