CS रिजल्ट रहा ऐतिहासिक , टॉप 3 रैंकर जयपुर की

By: Pushpendra Kumar Sharma

Updated On: 25 Aug 2019, 10:22:34 PM IST

  • All India लेवल पर प्रथम रैंक Jaipur की कृति खंडेलवाल, द्वितीय हर्षा चौइथानी और तृतीय रैंक रूपल गुप्ता ने प्राप्त की, पांचवीं रैंक पर संयुक्त रूप से पायल मिश्रा और अंतिमा माधवानी रहीं

सीए में जयपुर के छात्र की फस्र्ट रैंक के बाद CS Students ने धमाकेदार प्रदर्शन किया है। इस बार जयपुर चैप्टर के पांच स्टूडेंट्स ने ऑल इंडिया प्रोफेशनल न्यू Syllebus की मैरिट में प्रथम तीन स्थानों के साथ ही टॉप 5 मैरिट में भी जगह बनाई है। खास बात यह है कि ये सभी लड़कियां हैं। सेंटर से मिली जानकारी के अनुसार, यह ऐतिहासिक रिजल्ट है। ऐसा किसी भी सेंटर पर पहली बार हुआ है। ऑल इंडिया लेवल पर प्रथम रैंक जयपुर की कृति खंडेलवाल, द्वितीय हर्षा चौइथानी और तृतीय रैंक रूपल गुप्ता ने प्राप्त की। वहीं पांचवीं रैंक पर संयुक्त रूप से पायल मिश्रा और अंतिमा माधवानी रहीं।

इसके साथ ही एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम के तीन स्टूडेंट्स ने ऑल इंडिया मैरिट में स्थान हासिल किया है। वहीं एग्जीक्यूटिव आेल्ड सिलेबस में अंकित गर्ग ने 18 वीं, नैनशी अग्रवाल ने 20 वीं और एग्जीक्यूटिव न्यू सिलेबस में हर्षिता पारवाल ने ऑल इंडिया 15 वीं रैंक प्राप्त की है। जयपुर चैप्टर के चेयरमैन राहुल शर्मा के अनुसार, ICSI के सीएस एग्जीक्यूटिव और proffesional प्रोग्राम जून 2019 परीक्षा का परिणाम Sunday को घोषित किया गया। दोनों ही परीक्षाओं में जयपुर के students ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए ऐतिहासिक रैंक हासिल की हैं।
इस मौके पर मैरिटोरियस स्टूडेंट्स को स मानित किया गया। चैप्टर के वाइस चेयरमैन सीएस नितिन हॉटचंदानी, सेक्रेटरी सीएस नवनीत अगीवाल एवं ट्रेजरर सीएस अभिषेक गोस्वामी ने स्टूडेंट्स का उत्साह बढ़ाया। चेयरमैन राहुल शर्मा के अनुसार, जयपुर चैप्टर जून 2020 में होने वाले सीएस कि एग्जाम के लिए छात्रों को निजी कोचिंग संस्थानों की तुलना में न्यूनतम शुल्क पर एवं एग्जाम पैटर्न के अनुरूप तैयारी करवाने के लिए सीएस इंस्टिट्यूट की जयपुर ब्रांच खुद छात्रों को उचित फीस पर कोचिंग करवाएगी। इनका रजिस्ट्रेशन शुरू है और क्लासेस 5 सित बर से शुरू होंगी। जयपुर चैप्टर के कार्यकारी अधिकारी डॉ. राजेश गुप्ता ने बताया कि एग्जीक्यूटिव पास छात्रों को जून 2020 प्रोफेशनल परीक्षा में शामिल होने के लिए 31 अगस्त तक रजिस्ट्रेशन करवाना होगा।

खुद से नोट्स से पाई सफलता: कृति

ऑल इंडिया रैंक वन हासिल करने वाली स्टूडेंट कृति खंडेलवाल का कहना है कि मैंने रेगुलर स्टडी की। पर्सनल नोट्स बनाए और उन पर फोकस किया। बहुत सारे मैटेरियल के बजाय मैंने एक ही नोट्स पर फोकस किया और उन्हें तीन चार बार रिवाइज किया। ग्रुप स्टडी से मुझे काफी मदद मिली। इसलिए मैं कहना चाहती हूं कि बहुत से मैटेरियल के बजाय एक मैटेरियल पर ही फोकस करें और ग्रुप स्टडी करें। सफलता का श्रेय पेरेंट्स और टीचर्स को देना चाहूंगी। कृति को सीएस फ ाउंडेशन में ऑल इंडिया स्तर पर आठवीं रैंक व एग्जिक्यूटिव प्रोग्राम में 21वीं रैंक मिली थी। अब वे इंटर्नशिप कर जॉब करना चहाती है। उनके पिता राजेश खण्डेलवाल बिजनेस मैन और माता लक्ष्मी खंडेलवाल गृहिणी हैं।

नियमित पढ़ाई जरूरी: हर्षा
सीएस प्रोफेशनल में ऑल इंडिया स्तर पर द्वितीय रैंक प्राप्त करने वाली जयपुर की हर्षा चौइथानी का कहना है कि सफलता के लिए हार्डवर्क सबसे जरूरी है। रोजाना आठ से नौ घंटे पढ़ाई करती थी। इंस्टीट्यूट के मॉडल को एग्जाम से पहले चार से पांच बार रिवाइज किया। पेरेंट्स, टीचर्स और फ्रैंड्स का सपोर्ट रहा। अब मैं अच्छी कंपनी में ट्रेनिंग करके जॉब करना चाहती हूं। पिता ईश्वर चौइथानी बिजनेसमैन और माता प्रियंका गृहिणी हैं।

इंस्टीट्यूट का मॉडल रैफर करना जरूरी: रूपल गुप्ता
सीएस प्रोफेशनल में रैंक 3 हासिल करने वालीं रूपल गुप्ता का कहना है कि यह मुकाम पाना मेरे लिए अनएक्सपेक्टेड था, लेकिन अमेजिंग रहा। सीएस में हमें सभी मॉड्यूल एक साथ देने चाहिए। साथ ही स्टडी प्लान बनाकर टाइम मैनेजमेंट के साथ पढ़ाई करनी चाहिए। इंस्टीट्यूट का मॉडल रेफर करना जरूरी है। यह काफी मदद करता है। इसके साथ ही ग्रुप स्टडी को मैंने तवज्जो दी। हमने टार्गेट बनाए और उन्हें अचीव करने की कोशिश की। एक दूसरे के डाउट क्लियर किए। सक्सेस के लिए पूरी शिद्दत के साथ जुट जाना चाहिए। पिता मोहन लाल गुप्ता एलआईसी में काम करते हैं और मां सीमा गृहिणी हैं।

मां के सहयोग से की स्टडी: मिश्रा
ऑल इंडिया स्तर पर जयपुर से पांचवीं रैंक पर रही पायल मिश्रा ने कहा कि पिता घनश्याम मिश्रा की मौत होने के बाद माता मंजू के सहयोग से सीएस की पढ़ाई की और आज इस मुकाम पर पहुंची हूं। उन्होंने कहा कि नियमित पढ़ाई से आज सीएस की पढ़ाई पूरी की। पायल ने फाउंडेशन में 22वीं और एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम में 40वीं रैंक ऑल इंडिया स्तर पर प्राप्त की।

संस्थान के नोट्स से पढ़ाई: माधानी
अंतिमा माधानी ने कहा कि सीएस संस्थान की ओर से दिए गए नोट्स से पढ़ाई की। उन्होंने कहा कि स्टडी में बड़ी बहन सीए मनीषा ने पूरा सहयोग किया। अपनी सफ लता का श्रेय पिता राजेन्द्र बिजनेसमैन और माता कुशम को दिया है।

Updated On:
25 Aug 2019, 10:22:33 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।