फिर जल उठा जयपुर! 10 थाना इलाकों में इंटरनेट बंद, कई वाहनों में तोडफ़ोड़, छावनी में तब्दील हुए कई इलाके

By: dinesh

|

Updated: 13 Aug 2019, 07:36 AM IST

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

जयपुर। गलता गेट थाना इलाके में कांवड़ यात्रा ( kavad yatra ) के दौरान रविवार को हुई कहासुनी ने सोमवार को उग्र रूप ( Communal tension in jaipur ) ले लिया। पत्थरबाजी, झगड़ा, आगजनी से दिल्ली रोड जाम हो गया। देर रात समुदाय विशेष ( communal violence ) के लोग बड़ी संख्या में जमा होकर दिल्ली रोड पर आ गए। दिल्ली की ओर जा रही एक निजी बस पर उन्होंने पथराव ( Stone pelting ) कर दिया। वहीं रोड पर एकत्र होकर दोनों तरफ का यातायात रोक दिया। कुछ ही देर में उग्र भीड़ पत्थर, सरिए, डंडे लिए हुए पुलिया नंबर 2 के आगे मंडी खटीकान की ओर आ गई और वहां पर घरों पर पथराव किया। दूसरे समुदाय से भी लोग घरों से बाहर निकले और आमने-सामने हो गए। देर रात तक मौके पर पुलिस तैनात है, लेकिन तनाव बरकरार रहा। उपद्रवियों को खदेडऩे के लिए पुलिस को भारी बल प्रयोग करना पड़ा है और आंसू गैस के गोले भी दागे। फायरिंग की सूचना भी है, हालांकि पुलिस ने इसकी पुष्टि नहीं की है। विवाद में घायल नौ जने एसएमएस अस्पातल में भर्ती हैं।

 

10 थाना इलाकों में मोबाइल इंटरनेट बंद ( Mobile internet ban )
सुरक्षा के मध्यनजर रामगंज, गलतागेट, सुभाष चौक, माणक चौक, कोतवाली, शास्त्री नगर, भट्टाबस्ती, संजय सर्कल सहित 10 थाना क्षेत्रों में मोबाइल इंटरनेट बंद कर दिया है।

 

बख्तरबंद गाडिय़ां लगाती रही चक्कर
तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए आरएसी सहित विशेष टीमों को मौके पर लगाया गया। आंसू गैस के गोले छोडकऱ भीड़ को खदेड़ा गया। हथियारों से लैस पुलिस की बख्तरबंद गाडिय़ां इलाके में चक्कर लगाती दिखी। सूत्रों से पता चला है कि उपद्रवियों से ऑटो रिक्शा, बाइक व एंबुलेंस में आग लगाई है, हालांकि इसकी पुलिस पुष्टि नहीं कर रही है। दो दमकलें भी मौके पर आते-जाते देखी गई। तनाव के चलते इलाके को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया और लोगों को घरों में भेज दिया।

 

कावड़ यात्रा से शुरू हुआ विवाद
चार दरवाजा पर रविवार को कावड़ यात्रा के दौरान हल्का विवाद हुआ था। उसके बाद सोमवार रात को यह विवाद फिर से कावड़ यात्रा पर ही हुआ है। थोड़ी सी बात को लेकर बसों में तोडफ़ोड़ की गई और वाहनों को आग के हवाले किया गया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने काबू करने का प्रयास किया है। मौके पर अतिरिक्त कमिश्नर समेत अन्य अधिकारी मौजूद रहे और स्थिति पर नियंत्रण पाने की कोशिश जारी रही।

 

अलर्ट पर भी नहीं दिया ध्यान
ईद और श्रावण के अंतिम सोमवार को देखते हुए विशेष अलर्ट जारी किया गया था। रविवार को हुए विवाद के बाद तो चारदीवारी इलाके में सुरक्षा के विशेष इंतजाम किए गए थे। दिनभर शांति रही और रात्रि में पुलिस जहां हल्की हुई तो विवाद हो गया। उत्तर जिले के सभी थानाधिकारियों को अपने इलाके में भारी जाप्ते के साथ गश्त के निर्देश दिए गए हैं। वहीं मौके पर सैकड़ों की संख्या में पुलिस तैनात की है।

 

- अभी तक पता नहीं चल सका है कि भीड़ सडक़ पर क्यों आई और पथराव क्यों शुरू किया। देररात को स्थिति नियंत्रण में हो गई है।
आनंद श्रीवास्तव, पुलिस आयुक्त

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।