पाकिस्तान की एस्ट्रोनॉट ने की भारत के मून मिशन की तारीफ

By: Neeru Yadav

Updated On: 10 Sep 2019, 01:23:01 PM IST

  • भारत के चंद्रयान-2 मिशन की दुनियाभर में तारीफ हो रही है, तारीफ करने वालों में अब एक और नाम जुड़ गया है और वो शख्स हैं पाकिस्तान की पहली एस्ट्रोनॉट नमिरा सलीम का। पाकिस्तान में इमरान सरकार के मंत्री भले ही भारत के मून मिशन की खिल्ली उड़ाने से बाज नहीं आ रहे हों लेकिन नमीरा सलीम ने इस मिशन के लिए इसरो और भारत के बधाई दी है।

भारत के चंद्रयान-2 मिशन की दुनियाभर में तारीफ हो रही है, तारीफ करने वालों में अब एक और नाम जुड़ गया है और वो शख्स हैं पाकिस्तान की पहली एस्ट्रोनॉट नमिरा सलीम का। पाकिस्तान में इमरान सरकार के मंत्री भले ही भारत के मून मिशन की खिल्ली उड़ाने से बाज नहीं आ रहे हों लेकिन नमीरा सलीम ने इस मिशन के लिए इसरो और भारत के बधाई दी है।
नमीरा कहती हैं मैं चन्द्रयान 2 के लैंडर विक्रम की चांद के साउथ पोल में सॉफ्ट लैंडिंग की ऐतिहासिक कोशिश के लिए इसरो और भारत को बधाई देती हूं। चंद्रयान-2 न सिर्फ दक्षिण एशिया के लिए बल्कि पूरे ग्लोबल अंतरिक्ष उद्योग के लिए गर्व का विषय है। उन्होने कहा कि अंतरिक्ष के लिए क्षेत्र में दक्षिण एशिया का कदम काफी उल्लेखनीय है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि कौन-सा देश इसे लीड कर रहा है क्योंकि अंतरिक्ष में राजनीतिक सीमाएं खत्म हो जाती हैं और सभी एकजुट हो जाते हैं। नमीरा का यह बयान इसलिए भी अहम है क्योंकि उनके देश के विज्ञान और प्रौद्योगिकी के मंत्री फवाद खान हमारे मून मिशन पर बचकाने बयान दे चुके हैं

आइये आपको बताते हैं कि कौन हैं नमीरा सलीम
नमीरा सलीम पाकिस्तान की पहली एस्ट्रोनॉट बनने जा रही हैं जो कि सर रिचर्ड ब्रैनसन वर्जिन गैलेक्टिक के साथ अंतरिक्ष जाएंगी।
सर रिचर्ड ब्रैनसन वर्जिन गैलेक्टिक दुनिया की पहली कॉमर्शियल स्पेसलाइन है।
उनका जन्म कराची में हुआ लेकिन वो फिलहाल मोनेको और दुबई में रहती हैं।
वो पहली पाकिस्तानी महिला हैं जो अप्रेल 2017 में नॉर्थ पोल में गई
नमीरा जनवरी 2008 में दक्षिण ध्रुव पर जा चुकी हैं

वैसे नमीरा सलीम अकेली नहीं है जो भारत के इस मून मिशन की तारीफ कर रही हैं, नक्षत्र प्रचारक और वैज्ञानिक एमिली लकदावला ने भी अपनी पोस्ट में कहा है कि लोगों के लिए यह बस एक चेतावनी है कि लैंडर को सतह पर लाने के प्रयास में लगे भारत ने चांद के कक्ष में अपना दूसरा अंतरिक्ष यान सफलतापूर्वक भेज दिया है चंद्रयान -2 ऑर्बिटर एक साल तक वहां रहेगा, लैंडर केवल दो सप्ताह तक ही चलता।

Updated On:
10 Sep 2019, 01:23:00 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।