जानलेवा बन रहे बोरवेल

By: vinay sharma

Updated On: 22 May 2019, 02:38:33 PM IST

 
  • हरियाणा के प्रिंस से शुरू हुआ खुले बोरवेल में गिरने का दुखद सिलसिला देशभर में लगातार जारी है। जोधपुर के मेलाना गांव में सोमवार को काल का ग्रास बनी चार वर्षीय सीमा का नया नाम भी उसमें जुड़ चुका है। लेकिन, जानलेवा इन खुले बोरवेल को लेकर प्रशासन कितना गंभीर है इसकी बानगी सीकर में भी देखी जा सकती है। जहां जिलेभर में दर्जनों बोरवेल ऐसे हैं, जो अनुपयोगी होते हुए भी प्रशासन की ओर से बंद नहीं कराए जा रहे हैं। ऐसे में चार सौ फिट तक गहरे यह गड्ढे हर समय हादसे का न्यौता देते दिखते हैं। पत्रिका ने पड़ताल की तो अकेले श्रीमाधोपुर में ही ऐसे तीन बोरवेल मिले। जिनमें कंचनपुरा में चार दुकान स्टैंड के पास खुदे बोरवेल के पास बच्चे भी खेलते मिले। जो मौत के इन गड्ढों से कुछ दूरी पर ही थे। लेकिन, बरसों पहले बने इन बोरवेल से पानी नहीं मिलने पर भी प्रशासन इस खतरे से मुंह चुराता नजर आया। ग्रामीणों का कहना था कि क्षेत्र में ऐसे तीन खुले बोरवेल है, जिनको बंद करने के लिए स्थानीय प्रशासन और जलदाय विभाग से कई बार गुहार लगाई जा चुकी है, लेकिन किसी भी स्तर पर कोई सुनवाई नहीं हो रही।

हरियाणा के प्रिंस से शुरू हुआ खुले बोरवेल में गिरने का दुखद सिलसिला देशभर में लगातार जारी है। जोधपुर के मेलाना गांव में सोमवार को काल का ग्रास बनी चार वर्षीय सीमा का नया नाम भी उसमें जुड़ चुका है। लेकिन, जानलेवा इन खुले बोरवेल को लेकर प्रशासन कितना गंभीर है इसकी बानगी सीकर में भी देखी जा सकती है। जहां जिलेभर में दर्जनों बोरवेल ऐसे हैं, जो अनुपयोगी होते हुए भी प्रशासन की ओर से बंद नहीं कराए जा रहे हैं। ऐसे में चार सौ फिट तक गहरे यह गड्ढे हर समय हादसे का न्यौता देते दिखते हैं। पत्रिका ने पड़ताल की तो अकेले श्रीमाधोपुर में ही ऐसे तीन बोरवेल मिले। जिनमें कंचनपुरा में चार दुकान स्टैंड के पास खुदे बोरवेल के पास बच्चे भी खेलते मिले। जो मौत के इन गड्ढों से कुछ दूरी पर ही थे। लेकिन, बरसों पहले बने इन बोरवेल से पानी नहीं मिलने पर भी प्रशासन इस खतरे से मुंह चुराता नजर आया। ग्रामीणों का कहना था कि क्षेत्र में ऐसे तीन खुले बोरवेल है, जिनको बंद करने के लिए स्थानीय प्रशासन और जलदाय विभाग से कई बार गुहार लगाई जा चुकी है, लेकिन किसी भी स्तर पर कोई सुनवाई नहीं हो रही।

Updated On:
22 May 2019, 02:38:32 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।