जूस की दुकान का रेट देखकर चौंक जाएंगे आप...पुलिस वाला मांगे एक गिलास तो कीमत एक लाख

By: Dinesh Kumar Gautam

Published On:
Jul, 20 2019 01:06 AM IST

  • एक जूस का गिलास कितना महंगा हो सकता है। सौ रुपए, पांच सौ रुपए...लेकिन राजधानी जयपुर jaipur crime में एक जूस वाले के गिलास की कीमत देखकर चौंक जाएंगे। यदि जूस पीने के लिए कोई पुलिसकर्मी Assistent sub inspector वर्दी में हो और वह किसी के साथ हो तो उस जूस के गिलास की कीमत एक लाख bribeरुपए हो जाती है।

जयपुर
एक जूस का गिलास कितना महंगा हो सकता है। सौ रुपए, पांच सौ रुपए...लेकिन राजधानी जयपुर में एक जूस वाले के गिलास की कीमत देखकर चौंक जाएंगे। यदि जूस पीने के लिए कोई पुलिसकर्मी वर्दी में हो और वह किसी के साथ हो तो उस जूस के गिलास की कीमत एक लाख रुपए हो जाती है। एक असिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर को एसीबी (acb news in jaipur)ने जूस की दुकान पर रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। जिसमें थानेदार ने एक लाख रुपए की रिश्वत ली है।

राजधानी में एक जूस वाले भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) की टीम ने शुक्रवार को ब्रह्मपुरी थाने के एसआई को एक लाख रुपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया है। एसीबी टीम ने दलाल को भी गिरफ्तार किया है। दर्ज मुकदमे की जांच के दौरान आरोपी नहीं बनाने और राहत देने की एवज में यह रिश्वत ली जा रही थी। एसीबी टीम आरोपी से पूछताछ कर रही है।

एसीबी के मुताबिक गिरफ्तार आरोपी छुट्टनलाल शर्मा जामडोली, आगरा रोड का रहने वाला है। वह लंबे समय से ब्रह्मपुरी थाने में एसआई के पद पर तैनात है। एसीबी में परिवादी ने गुरुवार को शिकायत दी कि ब्रह्मपुरी थाने में जमीनी धोखाधड़ी के दर्ज एक प्रकरण में एसआई छुट्टनलाल जांच अधिकारी है। उसने मुकदमे में उसे आरोपी नहीं बनाने व राहत देने की एवज में डेढ़ लाख रुपए की घूस मांगी है।

शिकायत पर एसीबी टीम ने ट्रेप रचा। शुक्रवार शाम ट्रांसपोर्ट नगर पुलिया के पास स्थित ज्यूस की दुकान पर दलाल कैलाश शर्मा के मार्फत रिश्वत के एक लाख रुपए लेते एसीबी टीम ने उसे रंगे हाथों धर-दबोचा। इसके बाद टीम ने कार्रवाई कर आरोपी एसआई छुट्टनलाल व दलाल कैलाश शर्मा को गिरफ्तार किया। एसीबी टीम आरोपी से पूछताछ करने के साथ ही उसके निवास की तलाशी ले रही है।

एसीबी का कहना है कि दलाल कैलाश शर्मा कपड़ों की दुकान चलाता है। एसआई छुट्टनलाल से उसका पुराना परिचय है। ब्रह्मपुरी थाने में रिपोर्ट दर्ज होने के बाद कैलाश ने पीडि़त की आरोपी एसआई से मीटिंग करवाई। उसने प्रकरण में उसे आरोपी नहीं बनाने के लिए 2 लाख रुपए की मांग की। लंबे समय तक दोनों में बात नहीं बनी। आखिरकार 1 लाख 50 हजार रुपए देने पर सहमति बन गई। शुक्रवार को रिश्वत के एक लाख रुपए देने के बाद बाकी के 50 हजार रुपए बाद में देना तय हुआ था।

Published On:
Jul, 20 2019 01:06 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।