नशे के मुख्य किंग पिन पर करेंगे अटैक, फेमा में सम्पत्ति होगी राजसात

By: Deepankar Roy

Updated On:
19 Aug 2018, 05:57:24 PM IST

  • लूट और चोरी की वारदातों ने पुलिस गश्त की पोल खोल दी है

जबलपुर। शहर में बढ़ती लूट और चोरी की वारदातों ने पुलिस गश्त की पोल खोल दी है। शहर में हर तीसरे दिन लूट की एक और चोरी की तीन वारदातें हो रही हैं। जनवरी से अब तक लूट के 87 मामले सामने आ चुके हैं। इनमें से 15 लूटों का पुलिस अब तक खुलासा नहीं कर सकी है। चोरी के मामलों का खुलासा करने में पुलिस का रेकॉर्ड और खराब है। अब तक 687 चोरियों में से 10 प्रतिशत का भी खुलासा नहीं हुआ है। चोरी और लूट के अधिकतर मामलों में नशा एक बड़ा फैक्टर सामने आया है। पुलिस अब नशे के मुख्य किंग-पिन पर बड़ी कार्रवाई की तैयारी में है। इसके लिए इनकी कुंडली तैयार की जा रही है। सभी की बेनामी सम्पत्ति फेमा कानून के तहत राजसात की जाएगी।


लूट और चोरी के नौ मामलों का खुलासा
शहर में पिछले डेढ़ महीने में लूट और चोरी के नौ मामलों का खुलासा हुआ। इन सभी में नशे की लत वारदात के प्रमुख कारण के रूप में सामने आई है। लूट के मामलों में टीन एजर्स समेत 25 साल की उम्र के युवक संलिप्त हैं। जबकि चोरी की वारदातों में पेशेवर चोरों के साथ नई उम्र के युवक नशे की गिरफ्त के चलते शामिल हो रहे हैं। जानकारी के अनुसार शहर में घमापुर, बेलबाग और ओमती थाना क्षेत्र नशे के अवैध कारोबार के रूप में सामने आए हैं। यहां कई ऐसे चेहरे हैं, जो नशे के कारोबार से बेनामी सम्पत्ति बना चुके हैं। उनके संरक्षण में कच्ची शराब बनाने सहित गली-मोहल्लों में अवैध तरीके से देसी शराब बेची जा रही है।

एसपी अमित सिंह से सीधी बात

सवाल : लूट, चोरी की हर वारदात में स्मैक और अन्य नशीले पदार्थों की बात अहम फैक्टर के रूप में सामने आ रही है।
जवाब : लूट व चोरी की वारदातों में अधिकतर 16 से 25 वर्ष के युवक शामिल हैं, जो इसी शहर के रहने वाले हैं।
सवाल : नशा बड़ा फैक्टर है, फिर इस पर कार्रवाई क्यों नहीं हो रही?
जवाब : नशे के कारोबारी सुनियोजित तरीके से काम कर रहे हैं। स्मैक की पुडिय़ा पत्थर के नीचे दबा देते हैं। ग्राहक से पैसे लेकर उसे वहां से उठाने को कहते हैं।
सवाल : ऐसे लोगों को पकड़ा क्यों नहीं जा रहा?
जवाब : पुडिय़ा में नशीले पदार्थ की मात्रा इतनी कम होती है कि उसमें अपराध ही नहीं बन पाएगा।
सवाल : शहर में स्मैक कहां से आ रही है?
जवाब : राजस्थान से स्मैक की आपूर्ति की जानकारी मिली है। नेटवर्क ट्रेस करने की कवायद जारी है।
सवाल : नेटवर्क को कब तक भेद पाएंगे?
जवाब : नशे के मुख्य किंग पिन टारगेट पर हैं। कई लोगों को चिह्नित किया गया है।
सवाल : ऐसे लोगों पर किस तरह कार्रवाई करेंगे?
जवाब : नशे के कारोबार से बेनामी सम्पत्ति अर्जित करने वालों पर फेमा के तहत कार्रवाई होगी। बेनामी सम्पत्ति राजसात करेंगे।


नशे का कारोबार
स्मैक : घमापुर, बेलबाग, ओमती, लार्डगंज, हनुमानताल, कोतवाली
शराब : रांझी, घमापुर, अधारताल, बेलबाग, ओमती, विजय नगर, मदन महल
गांजा : गढ़ा, संजीवनी नगर, घमापुर, माढ़ोताल, रांझी, खमरिया

Updated On:
19 Aug 2018, 05:57:24 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।