विधानसभा उपाध्यक्ष हिना कांवरे का बड़ा बयान, नक्सलवाद की वजह बताई ये- देखें वीडियो

By: Lalit Kumar Kosta

Updated On: Feb, 05 2019 11:48 AM IST

  • विधानसभा उपाध्यक्ष हिना कांवरे का बड़ा बयान, नक्सलवाद की वजह बताई ये- देखें वीडियो

जबलपुर. ‘नक्सलवाद को खत्म करने के लिए प्रभावित इलाकों में विकास हमारा पहला लक्ष्य है। यहां बड़ी समस्या बेरोजगारी की है। युवा नक्सलियों से प्रभावित भी इसी वजह से होते हैं। इसलिए रोजगार के साधन भी तेजी के साथ बढ़ाने के प्रयास किए जा रहे हैं।’ यह बात प्रदेश की विधानसभा उपाध्यक्ष हिना कांवरे ने सोमवार को सर्किट हाउस में पत्रकारों से चर्चा में कहीं।

news facts- नक्सलवाद की समस्या रोजगार से दूर होगी: कांवरे

उनका कहना था कि बालाघाट क्षेत्र में नक्सलवाद समाप्त नहीं हुआ है। नक्सलियों ने उसे अपना पनाहगार बना लिया है। जब भी छत्तीसगढ़ में हमला करते हैं तो वहां से भागने के बाद वह बालाघाट के जंगलों में आकर छुप जाते हैं। जहां वह रहते हैं वहां किसी घटना को अंजाम नहीं देते हैं। लांजी विधायक का कहना था नक्सली पैसों का प्रलोभन देकर युवाओं को भ्रमित कर रहे हैं इसलिए उन्हें रोजगार देने का काम कांग्रेस सरकार करेगी। इसके लिए उद्योग धंधे लगाने का काम किया जाएगा।

किसान कर्जमाफी योजना में किसानों के नाम फर्जी लोन के सवाल पर उनका कहना था कि भाजपा सोसायटियों में बहुत गड़बड़ी की थी। अब उनके घपले सामने आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने आदिवासी एवं पिछड़े वर्ग के लोगों को हमेशा तवज्जो दी है। वह इसलिए नहीं कि वह इस वर्ग के हैं बल्कि उनमें से जो लोग योग्य हैं उन्हें अवसर देकर आगे बढ़ाया है। अधिकारियों के तबादलों पर उनका कहना था कि सरकार ने तय किया है कि जो भी अधिकारी एक जगह अधिक समय से कार्यरत है। उनके रहने से जनपयोगी योजनाएं प्रभावित हो रही हैं उनका तबादल किया जाएगा। पश्चिम बंगाल की घटना पर उन्होंने कहा कि सीबीआइ जो भी कार्रवाई करेगी वह सही होगी। कुछ गलत भी होगा तो वह सामने आएगा।

Published On:
Feb, 05 2019 11:26 AM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।