Child pornography:लडक़ी बनकर फेसबुक पर दोस्ती करता, फिर वायरल की धमकी देकर पैसे ऐंठता

By: Santosh Kumar Singh

Updated On:
25 Aug 2019, 07:27:38 PM IST

  • नाबालिगों से करता था दोस्ती, मैसेंजर के माध्यम से मंगवाता था आपत्तिजनक फोटो, स्टेट साइबर सेल ने दबोचा, आरोपी ने बनाई लडक़ी के नाम से फर्जी फेसबुक आईडी, आरोपी ने मैसेंजर में अश्लील फोटोग्राफ्स नाबालिग से किये शेयर, नाबालिग था मानसिक रुप से प्रताडि़त, आरोपी द्वारा लड़कियों के नाम से कई फेसबुक आईडी बनाकर नाबालिग बच्चों से दोस्ती कर फोटोग्राफ्स प्राप्त किये जाते थे

     

जबलपुर। फेसबुक (Facebook) पर लडक़ी का फेक आईडी बनाकर नाबालिगों से दोस्ती कर एक युवक बाद में उन्हें ब्लैकमेल कर पैसे ऐंठता था। एक minors पीडि़त की शिकायत पर स्टेट साइबर सेल (state cyber cell) ने धारा 507 भादवि, 67 (बी) आईटी एक्ट और 11, 12, 13 लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012 का प्रकरण दर्ज कर जांच में लिया। पुलिस ने आरोपी के आईपी एड्रेस के आधार पर उसे ढूंढ़ निकाला। उसके जब्त मोबाइल में कई नाबालिगों के फोटो और विभिन्न लड़कियों के नाम से बनाए गए फेसबुक अकाउंट मिले हैं।

ये भी पढें-साइबर क्राइम संस्कारधानी के लिए नासूर बनता जा रहा है


नाबालिगों से मांगता था आपत्तिजनक फोटो व वीडियो
स्टेट साइबर सेल जबलपुर जोन अंकित शुक्ला ने बताया कि गिरफ्त में आया आरोपी विजय नगर निवासी भुवनेश बर्मन है। उसने जान्हवी सिंह के नाम से फेसबुक पर फेक आईडी बनायी थी। इसी सोशल अकाउंट पर उसने नाबालिग से दोस्ती की थी। फिर उसे आपत्तिजनक फोटोग्राफ्स और वीडियो भेज कर उसी तरह के फोटो व वीडियो मांगा। बाद में आपत्तिजनक फोटो व वीडियो वायरल करने की धमकी देकर वह नाबालिग से पैसों की डिमांड करने लगा था। इससे नाबालिग काफी तनाव में आ गया था।

ये भी पढें-ऑनलाइन शर्ट की खरीदी करने वाले युवक को जालसाज ने लॉटरी में जीप जीतने का झांसा दिया


social account प्लेटफॉर्म पर शेयर करता था
एसपी शुक्ला के मुताबिक आरोपी ने बताया कि उसने लड़कियों के नाम पर कई फेसबुक अकाउंट बनाए हैं। वह अलग-अलग नाबालिगों से दोस्ती कर उनके आपत्तिजनक फोटो प्राप्त करता और फिर उसे वायरल करने की धमकी देकर पैसे ऐंठता था। वह नाबालिगों के फोटो सोशल मीडियो प्लेटफार्म पर बने ‘गे-कम्यूनिटी’ के लिए बने एक एप पर शेयर करता था। उसके जब्त मोबाईल की गैलरी में पीडि़त नाबालिग सहित कई अन्य के आपत्तिजनक फोटो मिले हैं। इस खुलासे में निरीक्षक विपिन ताम्रकार, एसआई श्वेता सिंह, आरक्षक अजीत गौतम, सतीश व अवनी की भूमिका रही।

ये भी पढें-साइबर क्राइम में जबलपुर सबसे आगे, झारखण्ड से जुड़े कनेक्शन


क्या करे-
-सोशल मीडिया पर प्राईवेसी सेटिंग रखें ।
-किसी भी अनजान व्यक्ति से सोशल मीडिया पर दोस्ती न करें ।
-सोशल मीडिया पर किसी भी अनजान व्यक्ति को अपनी व परिवार की फोटो शेयर न करें ।
-माता-पिता अपने नाबालिग बच्चों को सोशल मीडिया फेसबुक, इंस्टाग्राम का उपयोग न करने दें ।
-नाबालिग बच्चों के आपत्तिजनक फोटो शेयर करना, रखना, और उन्हें फोटो या वीडियो दिखाना गम्भीर अपराध है।
-चाइल्ड पोर्नोग्राफी (Child pornography)का केस है। इस एक्ट में इसके लिए 7 साल तक सजा है।
-ऐसा कर चुके हैं और कोई ब्लैकमेल कर रहा हो तो परिवार और पुलिस से सम्र्क करें।
-माता-पिता अपने बच्चों को मोबाईल देते समय ‘चाईल्ड मोड’ का उपयोग करें ।

 

Updated On:
25 Aug 2019, 07:27:38 PM IST

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।